BIMAL MITRA

बांग्ला के प्रमुख कथाकार बिमल मित्र (1912-1991) ने सौ से अधिक उपन्यास लिखे हैं। वे अत्यंत लोकप्रिय कथाकार थे। उनकी कई कृतियों पर सफल फिल्मों का निर्माण हुआ है। भारतीय रेल सेवा से 1950 में 38 वर्ष की आयु में ही इस्तीफा दे कर वे पूर्णकालिक लेखक बन गए। वे एक सरल, गैर समझौतावादी, आधुनिक और लड़ाकू व्यक्ति थे। बिमल मित्र को रवींद्र पुरस्कार, शरत स्मृति पुरस्कार, साहित्य अकादेमी पुरस्कार आदि अनेक पुरस्कार तथा सम्मान मिले थे। उनकी कुछ बहुचर्चित कृतियाँ हैं-साहब-बीबी-गुलाम, खरीदी कौड़ियों के मोल, मरियम बेगम विश्वास, एकक दशक शतक, आसामी हाजिर।

BIMAL MITRA