FUMIYO KOUNO AND TOMOKO KIKUCHI

कोनो फुमियो - सितम्बर, सन् 1968 में जापान के हिरोशिमा शहर में जन्म। कोनो फुमियो जब मांगा (कॉमिक्स) की रचना शुरू की, तब वह सातवीं कक्षा की छात्रा थीं। वह हिरोशिमा विश्वविद्यालय की पढ़ाई को बीच में छोड़कर तोक्यो गयी और मांगा कलाकार के यहाँ मांगा की शिल्प सीखने लगीं। सन् 1995 में उनका प्रथम मांगा ‘माचिकादो हाना दायोरि’ का प्रकाशन हुआ। 2001 में उन्होंने होसो विश्वविद्यालय की पढ़ाई पूरी की। ‘यूनागि नो माचि, साकुरा नो कुनि’ (नीरव सन्ध्या का शहर, साकुरा का देश) को 2004 में आठवाँ संस्कृति मंत्रालय मेडिया कला सम्मेलन मांगा पुरस्कार और 2005 को नौवाँ तेजुका ओसामु संस्कृति पुरस्कार मिला। ‘कोनोसेकाइ नो कातासुमिनि’ को तेरहवाँ संस्कृति मंत्रालय मेडिया कला सम्मेलन मांगा पुरस्कार मिला। कोनो को पुस्तकालय में बैठकर अध्ययन करना और अपनी चिड़िया ‘तामानोओ’ को अपने बाजू पर बैठाकर उसे सूर्यास्त दिखाना अच्छा लगता है। उनका यह प्रिय कथन है, जो प्रसिद्ध फ्रांसीसी साहित्यकार अंड्रे जित ने कहा था ‘‘मैं हमेशा ऐसे इंसान के बारे में लिखना चाहता हूँ जिसका सच्चा सम्मान अदृश्य होता है।’’

FUMIYO KOUNO AND TOMOKO KIKUCHI

Books by FUMIYO KOUNO AND TOMOKO KIKUCHI