TRANS. : MADAN PAL SINGH

मदन पाल सिंह 1 जनवरी, 1975 को तहसील गढ़मुक्तेश्वर (उत्तर प्रदेश) के ग्राम लहडरा के एक किसान परिवार में जन्म। फ्रांस में शिक्षा पूरी करने के बाद कुछ साल वहीं पर कार्य। अब पूर्णकालिक लेखन एवं सांस्कृतिक- राजनैतिक रिपोर्टिंग में विशेष रुचि। भारत और यूरोप के बीच निरन्तर आवागमन। आने वाली पुस्तकें हैं: गली सेंत कैथरीन (उपन्यास) राजपथ (कविता संग्रह) समकालीन फ्रांसीसी कविता और उसका विधान (समालोचना, दो खण्डों में)। पर्सेपोलिस (ईरानी मूल की फ्रांसीसी लेखिका मरजानी सत्रापी की आत्मकथात्मक चित्रकथा का हिन्दी अनुवाद)। इसके अतिरिक्त सोलह पुस्तकों में समाहित फ्रांसीसी कविता की तीसरी और चौथी पुस्तकें क्रमशः ‘पॉल वरलेन और उनकी कविता’ तथा ‘आर्थर रैम्बो और उनकी कविता’ के नाम से।

TRANS. : MADAN PAL SINGH