CHANDRDHAR SHARMA G.

हिंदी के प्रमुख रचनाकार पंडित चन्द्रधर शर्मा 'गुलेरी' का जन्म 7 जुलाई, 1883 को पुरानी बस्ती जयपुर में हुआ था । गुलेरी जी अनेक भाषाओं के ज्ञाता थे। ‍आप संस्कृत, पाली, प्राकृत, हिंदी, बांग्ला, अँग्रेज़ी, लैटिन और फ्रैंच आदि भाषाओं पर एकाधिकार रखते थे । गुलेरी जी जब केवल दस वर्ष के थे तो एक बार आपने संस्कृत में भाषण देकर भारत धर्म महामंडल के विद्वानों को आश्चर्य चकित कर दिया था । आपने सभी परीक्षाएँ प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की । बी.ए. की परीक्षा में भी सर्वप्रथम रहे । आपकी रुचि विज्ञान में थी, प्राचीन इतिहास और पुरातत्व आपका प्रिय विषय था । 1904 से 1922 तक आपने अनेक महत्वपूर्ण संस्थानों में प्राध्यापक के पद पर कार्य किया । विधाएँ : कहानी, निबंध, व्यंग्य, कविता, आलोचना, संस्मरण प्रमुख कृतियाँ : गुलेरी रचनावली (दो खंडों में) संपादन : समालोचक, नागरी प्रचारिणी पत्रिका (संपादक मंडल के सदस्य) साहित्यिक विशेषताएँ - (पाठ के संदर्भ में विस्तार अपेक्षित है) समाज का यथार्थ चित्रण । वर्जनात्मक, चित्रात्मक, विवरणात्मक शैलियों का प्रयोग आम बोलचाल की भाषा का प्रयोग, सजीव दृश्य चित्रण शैली। निधन: 12 सितंबर 1922 को बनारस में गुलेरी जी का निधन हो गया।

CHANDRDHAR SHARMA G.

Books by CHANDRDHAR SHARMA G.