Manoj Kumar, Amit Kumar Bishwas

रामधारी सिंह दिनकर की प्रेरणा और प्रो. रामजी सिंह के सद्प्रयासों से देशभर में गाँधी विचार का पहला विभाग तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय, भागलपुर में 02 अक्टूबर, 1980 में खुला तो उसी विभाग के प्रथम सत्र में सर्वोकृष्ट अंकों से उत्तीर्ण होकर रिसर्च एसोसिएट (1991), शिक्षक (1997) तथा प्रभारी प्राध्यापक के रूप में प्रो. मनोज मनोज कुमार कुमार ज़िम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय योगदान करते रहे हैं। आन्दोलन और सेवा के साथ-साथ अकादमिक क्षेत्र में इन्होंने उल्लेखनीय योगदान किया है। सम्प्रति महात्मा गाँधी अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा में महात्मा गाँधी फ्यूजी गुरुजी समाज कार्य अध्ययन केन्द्र के संस्थापक निदेशक हैं। इसके अतिरिक्त विधि विद्यापीठ, शिक्षा विद्यापीठ के अधिष्ठाता, कुलानुशासक आदि ज़िम्मेदारियों का भी निर्वहन कर रहे हैं। इनकी उल्लेखनीय पुस्तकें- 'लोकतन्त्र और विश्व शान्ति', 'बिहार की भूमि समस्या', 'गाँधी-दृष्टि : युवा रचनात्मकता के आयाम' (सम्पा.), ‘गाँधी चरितमानस' (सम्पा.) प्रकाशित तथा 'हिन्द स्वराज का तत्त्व दर्शन' और 'गाँधी की संस्था तथा आश्रम' आदि प्रकाशनाधीन हैं। सम्पर्क : 9422404277 ई-मेल : manojkumardean@rediffmail.com IIIIIIIIIIIIIIIIIIIIIII युवा सांस्कृतिक पत्रकार। वर्ष 2004 से इनका पत्रकारिता के क्षेत्र में सार्थक हस्तक्षेप रहा है। संचार, साहित्य और नव सामाजिक विमर्श पर निरन्तर लेखन। विविध पत्र-पत्रिकाओं में दो सौ आलेख, साक्षात्कार, कहानी, रिपोर्ताज़ आदि प्रकाशित। आकाशवाणी से तीन दर्जन से अधिक कार्यक्रमों का प्रसारण। अकादमिक कार्य से वर्ष 2009 में आमत कुमार विश्वास मॉरीशस तथा वर्ष 2012 में दक्षिण अफ्रीका की यात्रा। हाल ही में इनकी पुस्तक ‘गाँधी-दृष्टि : युवा रचनात्मकता के आयाम' (सम्पा.), प्रकाशित हुई है और 'भूमण्डलीकरण मीडिया की आचार संहिता', 'चिन्तन सरोकार' आदि प्रकाशनाधीन हैं। सम्प्रति महात्मा गाँधी अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा में सहायक सम्पादक के रूप में कार्यरत

Manoj Kumar, Amit Kumar Bishwas

Books by Manoj Kumar, Amit Kumar Bishwas