DR. HAZARIPRASAD DVIVEDI

बचपन का नाम बैजनाथ द्विवेदी। श्रावण शुक्ल एकादशी संवत् 1964 (1907ई.) को जन्म। जन्म-स्थान आरत दुबे का छपरा, ओझबलिया, बलिया, उत्तर प्रदेश। संस्कृत महाविद्यालय, काशी में शिक्षा। 1929 ई. में संस्कृत साहित्य में शास्त्राी और 1930 में ज्योतिष में शास्त्राचार्य। 8नवंबर, 1930 से 1950 तक हिंदी शिक्षक के रूप में शांतिनिकेतन में अध्यापन। लखनउ$ विश्वविद्यालय में सम्मानार्थ डॉक्टर ऑफ लिट्रेचर की उपाधि 1949। सन् 1950 में काशी हिंदी विश्वविद्यालय में हिंदी प्रोफेसर और विभागाध्यक्ष के पद पर नियुक्त। ‘विश्वभारती’का साहित्यिक विश्वविद्यालय की एक्जीक्ूटिव काउंसिल के सदस्य 1950-53। काशी नागरी प्रचारिणी सभा, के अध्यक्ष 1952-53। नागरी प्रचारिणी सभा, काशी के हस्तलेखों की खोज (1952)। सन् 1957 में ‘पद्म-भूषण’। 1960-67 के दौरान, पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ में हिंदी के प्रोफेसर और विभागाध्यक्ष। सन् 1962 में पश्चिम बंग साहित्य अकादेमी द्वारा टैगोर पुरस्कार। 1967 के बाद पुनः काशी हिंदू विश्वविद्यालय में। 1974 में केंद्रीय सहित्य अकादेमी द्वारा पुरस्कृत। जीवन के अंतिम दिनों में ‘उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान’ के उपाध्यक्ष रहे। 19 मई, 1979 में देहावसान।

DR. HAZARIPRASAD DVIVEDI

Books by DR. HAZARIPRASAD DVIVEDI