DR. RAJENDRA PRASAD

शिक्षा: 1966 में रामजस कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए.। दिल्ली विश्वविद्यालय से ही एम. लिट्. एवं पी.एच.डी.। एम.लिट्. के शोध का विषय: ‘अज्ञेय, मुक्तिबोध एवं गिरिजाकुमाार माथुर का काव्य।’ पी-एच.डी. का विषय: ‘तार सप्तक’ के कवियों की समाज-चेतना।’ कार्यक्षेत्र: सितंबर, 1966 से दिल्ली विश्वविद्यालय में अध्यापन। अध्ययन-अध्यापन एवं लेखन का विशेष क्षेत्र नयी कविता एवं नाटक। ध्वनि-रूपक लेखन में सक्रिय। लगभग पाँच दर्जन ध्वनि-रूपक आकाशवाणी के विभिन्न एकांशों से प्रसारित।

DR. RAJENDRA PRASAD