DR. SARDAR MUJAVAR

जन्म: 5 मई 1953, कोल्हापुर, महाराष्ट्र, शिक्षा: एम.ए., डी.लिट्., प्रकाशित पुस्तकें: हिन्दी गश्जश्ल के विविध आयाम; हिन्दी गश्जश्ल की नई दिशाएँ; हिन्दी गश्जश्ल µ गश्जश्लकारों की नजर में; हिन्दी गश्जश्ल का वर्तमान दशक; दुष्यन्त कुमार की गश्जश्लों का समीक्षात्मक अध्ययन; झरोखे से झाँकता चाँद; हिन्दी की छायावादी गश्जश्ल। यू.जी.सी. बृहद् शोध परियोजनाएँ: हिन्दी में गश्जश्ल की अवधारणा, विकास और उसका मूल्यांकन; राष्ट्रीय एकता के परिप्रेक्ष्य में हिन्दी गश्जश्लों का समीक्षात्मक अध्ययन; हिन्दी में दोहा काव्यµएक साहित्यिक एवं सामाजिक अध्ययन। यू.जी.सी. लघु-शोध परियोजनाएँ: महाराष्ट्र में हिन्दी दशा एवं दिशा; दुष्यन्त कुमार की गश्जश्लों का समीक्षात्मक अध्ययन। पुरस्कार एवं सम्मान: महाराष्ट्र राज्य हिन्दी साहित्य अकादमी का वर्ष 2007 का बाबूराव विष्णु पराड़कर पुरस्कार; पूर्वोत्तर हिन्दी अकादमी, शिलांग (मेघालय) का वर्ष 2008 का पुरस्कार; अखिल भारतीय साहित्य संगम, उदयपुर (राज.) का साहित्य-सरताज पुरस्कार; शिवाजी विश्वविद्यालय का आदर्श शिक्षक पुरस्कार; युवा समूह प्रकाशन, वर्धा का राज्य स्तरीय गौरव पुरस्कार। संप्रति: अध्यक्ष, हिन्दी विभाग, स्नातक एवं स्नातकोत्तर केन्द्र, किसन वीर महाविद्यालय, वाई, जिला सतारा (महाराष्ट्र)। सम्पर्क: ‘गश्जश्ल’, धोम कालोनी के पश्चिम में सिद्धनाथबाड़ी, वाई-412803, सतारा (महाराष्ट्र)।

DR. SARDAR MUJAVAR