RAMASHANKAR NISHESH

रमाशंकर निशेश सन् 1931 में जन्मे रमाशंकर निशेश रंगमंच के एक सुपरिचित नाटककार हैं। कुछ समय स्नातक के रूप में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में रहे। इलाहाबाद नाट्य संघ द्वारा इनके कई नाटकों को पुरस्कृत किया गया। साहित्य कला परिषद् दिल्ली द्वारा नाटक 'आदमखोर' सर्वोत्तम नाट्य-लेखन के लिए प्रथम पुरस्कार से पुरस्कृत तथा दिल्ली नाट्य संघ द्वारा 1983 में रंगमंच में उनकी विशेष सेवाओं के लिए सम्मानित होने के साथ ही उन्हें वर्तमान में आठवाँ नटसम्राट सम्मान 2016 से भी सम्मानित किया गया। रंगमंच से पूर्णतया जुड़े रहने के कारण उनके सभी नाटक मंचनीय हैं रचनाएँ : आदमखोर; कुक्कू डार्लिंग; कोठा; अमीबा; अपभ्रंश; प्यार कैसे होता है; महासम्मेलन; सीपियाँ; मेमो; अपनी डफली, अपना राग; कुत्ता किसका है; डूबा वंश कबीर का।

RAMASHANKAR NISHESH