BAIKUNTH PANDEY

जन्म: बिहार के कैमुर जिले की पर्वतावली के एक छोटे से गाँव में। बचपन कैमुर के गाँव में और अध्ययन काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से। अनपढ़ अभिवंचित बच्चों से प्रेरित होकर सभी अरमानों को त्याग कर प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में कार्य। पाँच वर्षों तक मूसहर (भूइयां) जाति के बच्चों को नवाचारी ढंग से शिक्षण। शिक्षकों, प्रशिक्षकों एवं शिक्षा अधिकारियों का प्रशिक्षण, सामुदायिक सहभागिता पर नए ढंग से कार्य। विविध मंच कलाओं से सम्बद्धता एवं कार्य। लेखन में कार्य रुचि। लेखन एवं प्रकाशन: प्राथमिक कक्षाओं में गतिवधि आधारित शिक्षण। विद्यालय पूर्व शिक्षा: अभिभावक एवं अध्यापक (यंत्रस्थ)। नवाचारी शिक्षण: एक प्रयोग (यंत्रस्थ)। यथार्थ: कहानी संग्रह (यंत्रस्थ)। प्रेरणा स्रोत: पिता, परिवार एवं गरीब अभिवंचित वर्ग के बच्चे। संप्रति: शिक्षण अधिगम सामग्रियों के निर्माण एवं उनके प्रयोग पर कार्य।

BAIKUNTH PANDEY