रामायण का जन्म और वाल्मीकि की कहानियाँ

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5229-085-7

लेखक:डॉ. प्रणव कुमार बनर्जी

Pages:104

मूल्य:रु225/-

Stock:In Stock

Rs.225/-

Details

No Details Available

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

DR. PRANAV KUMAR BANERJEE

DR. PRANAV KUMAR BANERJEE डॉ. प्रणव कुमार बनर्जी जन्म : 23 दिसम्बर 1935, जमालपुर (अब बंगला देश में), क्रान्तिकारी व स्वतन्त्रता सेनानी परिवार में। निवास : देश विभाजन के तुरन्त बाद से मध्यप्रदेश (अब छत्तीसगढ़) के स्थायी निवासी। शिक्षा : होमियोपैथी एवं बायोकेमेस्ट्री में डिप्लोमा, 1963 कृतित्व : साहित्य की विभिन्न विधाओं में लेखन । प्रकाशन-प्रसारण। लघुकथा-श्रेष्ठ कौन? साप्ताहिक हिन्दुस्तान 1-5-1955 । तब से अब तक लगातार लेखन कार्य। प्रकाशित कृतियाँ : 'तर्पण', 'अमृत यात्रा' (उपन्यास); 'नीरू' (बालोपयोगी उपन्यास); 'मेरा आकाश' (आत्मकथा मूलक उपन्यास); 'गीता का अध्ययन क्यों?' (चिन्तन); 'अपराजेय होमियोपैथी', 'व्यावहारिक होमियोपैथी', 'विशिष्ट औषधियाँ', 'सफल होमियोपैथी के सरल सोपान', 'सम्पूर्ण होमियोपैथी' (सभी चिकित्सा ग्रन्थ); 'वाल्मीकि रामायण की कहानियाँ' (किशोपयोगी); 'यात्रा संस्मरण' (अमरनाथ, बद्रीनाथ, केदारनाथ एवं थाईलैण्ड); ‘राग मुक्तक' (कविता संग्रह); 'मेरे पचहत्तर वर्ष पूर्ण हुए' (जीवनी); सामवेदीय नित्यकर्म विधि। "अन्य विधाओं में नियमित लेखन, प्रकाशन एवं प्रसारण। * 1967 से 1969 रात्रिकालीन होमियोपैथी महाविद्यालय, बिलासपुर में आयुर्विज्ञान का अध्यापन। * 1992 से लगातार दस वर्षों तक ग्वालियर से प्रकाशित होमियो त्रैमासिक 'हनीमन दिशा' के सम्पादक मंडल के सदस्य। * 2000-2006 तक इंडियन होमियोपैथिक आर्गेनाइजेशन के राष्ट्रीय महासचिव एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष। * 1964 से लगातार 22 वर्षों तक राजनीति में सक्रियता। आपातकाल (1975) में मीसाबन्दी। * सन 2000 में नयी दिल्ली में राष्ट्रीय हिन्दी सेवी सहस्राब्दी सम्मान।। * उपन्यास 'अमृत यात्रा' को 10 अक्टूबर 2010 को राज्यपाल म.प्र. के हाथों हरिहर निवास द्विवेदी सम्मान।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality