Format:Paper Back

ISBN:978-81-8143-912-3

लेखक:

Pages:292

मूल्य:रु325/-

Stock:In Stock

Rs.325/-

Details

No Details Available

Additional Information

भरत का नाट्यशास्त्र सदियों से हमारे वाङ्गमय का एक गौरव ग्रन्थ रहा है। संगीत, चित्रकला और साहित्य के मिश्रण से एक चौथी विधा-नाटक-के आविष्कार ने शिक्षा, मनोरंजन और ज्ञान की एक सर्वथा नयी विधा को जन-जन के सामने प्रस्तुत किया। हम कह सकते हैं कि नाटक ने मंच पर एक नये ब्रह्माण्ड की ही सृष्टि कर डाली। अकारण नहीं है कि नाट्यशास्त्र को पाँचवें वेद की संज्ञा दी गयी। नाट्यशास्त्र पर सरसरी निगाह से भी नज़र डालें तो हम चमत्कृत रह जाते हैं, क्योंकि इसमें समूचे रंग कर्म का ऐसा विविध और विस्तृत लेखा-जोखा है जो अन्य शास्त्रों में एक स्थान पर दिखायी नहीं देता। लेकिन आम तौर पर समूचे नाट्यशास्त्र से बहुत कम लोगों का सम्बन्ध रहता है। यही कारण है कि इस पुस्तक में डॉ. राधावल्लभ त्रिपाठी ने बड़े कौशल के साथ नाट्यशास्त्र के उन अंशों का एक सम्पादित संस्करण तैयार किया है जो रंगकर्मियों और नाट्यशास्त्र के अध्येताओं के मतलब का है। अर्थात नाट्यशास्त्र जिनके लिए रचा गया है, उन्हें वह सुलभ हो सके। इस उद्देश्य से डॉ. राधावल्लभ त्रिपाठी ने सभी मूल अवधारणाओं, प्रयोग की प्रविधियों और भरत की रंग-दृष्टि को इस संक्षिप्त नाट्यशास्त्र में प्रामाणिक रूप से प्रस्तुत किया है। इस पुस्तक की एक विशेषता यह है कि मूल पाठ के साथ-साथ उसका सहज-सरल भाषा में अनुवाद भी दे दिया गया है और साथ में जहाँ आवश्यक समझा गया है वहाँ मुद्राओं आदि के चित्र भी दे दिये गये हैं जिससे पुस्तक का महत्त्व बहुत बढ़ गया है। आशा है कि इस पुस्तक से रंग कर्मी ही नहीं, सामान्य रंग-प्रेमी भी लाभान्वित होंगे।

About the writer

ED. RADHAVALLABH TRIPATHI

ED. RADHAVALLABH TRIPATHI जन्म : 15 फरवरी 1949, राजगढ़ (मध्यप्रदेश) भाषा : संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी विधाएँ : कहानी, उपन्यास, नाटक, पुनर्लेखन, अनुवाद मुख्य कृतियाँ नया साहित्य नया साहित्यशास्त्र, कथासरित्सागर, संस्कृत साहित्य सौरभ (तीसरा और चौथा खंड) आदि कवि वाल्मीकि, संस्कृत कविता की लोकधर्मी परंपरा (दो संस्करण), काव्यशास्त्र और काव्य (संस्कृत काव्यशास्त्र और काव्यपरंपरा शीर्षक से नया संस्करण), भारतीय नाट्य शास्त्र की परंपरा एवं विश्व रंगमंच, विक्रमादित्य कथा, लेक्चर्स ऑन नाट्यशास्त्र तथा नाट्यशास्त्र विश्वकोश (चार खंड), ए बिब्लिओग्राफी ऑफ अलंकारशास्त्र, कादंबरी, आधुनिक संस्कृत साहित्य : संदर्भ सूची सम्मान साहित्य अकादमी पुरस्कार, पंडितराज सम्मान संपर्क बी-12, सागर विश्वविद्यालय, सागर, मध्य प्रदेश - 470003 ई-मेल rsks@nda.vsnl.net.in

Books by ED. RADHAVALLABH TRIPATHI

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality