KAMDEV KA APNA BASANT RITU KA SAPNA

Format:Hard Bound

ISBN:81-7055-770-4

Author:HABIB TINVIR

Pages:64

MRP:Rs.75/-

Stock:In Stock

Rs.75/-

Details

कामदेव का अपना वसंत ऋतु का सपना

Additional Information

एथेंस का ड्यूक थिसियस अमेज़नों की रानी हिपोलाइटा से विवाह की तैयारियाँ कर रहा है। विवाहोत्सव की उसकी योजनाएँ गँवई कारीगरों के एक दल को अपने ही द्वारा विरचित एक त्रासदी का मंचन करने को उकसाता है जिसका पूर्वाभ्यास वे पास के एक वन में करने का निश्चय करते हैं। उसी समय एक प्रेमी युगल हर्मिया और लाइसेंडर उसी वन में छिप जाते हैं क्योंकि हर्मिया का पिता चाहता है कि बेटी का विवाह डेमेट्रियस नामक दूसरे नवयुवक से हो। प्रेमी युगल ग़लती से अपनी योजनाएँ हेलेना को बता देते हैं जो डेमेट्रियस को चाहती है। ड्यूक के विवाह के उपलक्ष्य में वन आई हुई परियों से भरा हुआ है। उनके राजा ओबरॉन की अपनी रानी टाइटानिया से खटपट हो गई है। पक नामक एक गण को एक ऐसा फूल खोजने वन में भेजता है जिसका रस यदि किसी सोते हुए व्यक्ति की पलकों में निचोड़ दिया जाए तो वह जागने के बाद जिस पहले जीव को देखेगा उसी के प्रेम में पड़ जाएगा। ओबरॉन की कारस्तानियाँ और पक द्वारा जान-बूझकर की गई गलतियाँ प्रेमियों को कई ग़लतफ़मियों में डाल देती हैं जो तभी सुलझती हैं जब ओबरॉन टाइटानिया को उसका असली रूप लौटा देता है। अब चारों प्रेमियों को अपना सही साथी मिल जाता है और ड्यूक थिसियस उन्हें अपने साथ तिहरे विवाहोत्सव में सम्मिलित होने के लिए एथेंस लौटने के लिए निमंत्रित करता है जिसमें गँवई कारीगरों की रंगमंडली एक लोटपोट कर देनेवाला मंचन प्रस्तुत वरती है।

About the writer

HABIB TINVIR

HABIB TINVIR नाटककार, निर्देशक, प्रोड्यूसर, अभिनेता, पत्रकार, संपादक, कवि और ‘नया थिएटर’ के संस्थापक। 1 सितंबर, 1923 को रायपुर, मध्यप्रदेश में जन्मे हबीब तनवीर की शिक्षा मौरिस कॉलेज, नागपुर में हुई। 1954 में यूनाइटेड किंगडम गए और वहाँ विभिन्न संस्थानों से थिएटर का प्रशिक्षण प्राप्त किया। 1959 में ‘नया थिएटर’ की स्थापना। प्रमुख नाटक: शतरंज के मोहरे, आगरा बाज़ार, मिट्टी की गाड़ी, मिर्जा शोहरत बेग़, लाला शोहरत राय, बहादुर क्लारिन, शाजापुर की शांतिबाई, देख रहे हैं नयन, मुद्राराक्षस, कामदेव का अपना वसंत ऋतु का सपना, सड़क, हिरमा की अमर कहानी और चरनदास चोर (जिसके 1000 से अधिक प्रदर्शन हो चुके हैं)। सम्मान: केन्द्रीय संगीत नाटक अकादमी अवार्ड; जवाहरलाल नेहरू फैलोशिप; मध्यप्रदेश सरकार का शिखर सम्मान; नांदिकर पुरस्कार, कोलकाता; पद्मश्री; इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़ और रवीन्द्र भारती विश्वविद्यालय, कोलकाता से डी.लिट्.; ग़ालिब अकादमी उर्दू नाटक पुरस्कार; महाराष्ट्र स्टेट उर्दू अकादमी, कविता एवं नाट्य लेखन पुरस्कार; हिन्दी साहित्य सम्मेलन, भोपाल से लेखन पुरस्कार; आदित्य विक्रम बिरला कला शिखर पुरस्कार; साहित्य कला परिषद पुरस्कार, दिल्ली; कालिदास सम्मान; साहित्य अकादमी पुरस्कार, दिल्ली; पद्मभूषण व अन्य अनेक पुरस्कार।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality