SARMAYA : KAIFI AAZMI SAMAGRA

Format:Hard Bound

ISBN:9789352293179

Author:KAIFI AAZMI

Pages:250

MRP:Rs.275/-

Stock:In Stock

Rs.275/-

Details

उर्दू साहित्य में कैफ़ी आज़मी का व्यक्तित्व किसी परिचय का मोहताज नहीं। इसी अर्द्धशताब्दी के भयानक वातावरण में वह और उनकी शायरी कठिन परीक्षा से गुज़री है। कभी अवसरवादियों ने उन पर उँगलियाँ उठाईं तो कभी धर्म के नाम पर कट्टरपंन्थियों ने उन पर हमले किए। कभी प्रगतिशील विचारधारा के विरोधियों ने उन्हें अपना निशाना बनाया तो कभी आधुनिकता के ठेकेदारों ने उन पर ख़ाक उड़ाई। कानून के रखवालों ने उन पर पाबन्दी लगाई, और प्रगतिशील विचारधारा के आलोचकों तथा लेखकों ने भी उनके साथ न्याय नहीं किया। इसके बावजूद कैफ़ी आज़मी अपने ज़मीर और फ़न के प्रति ईमानदारी और खुलूस का रवैया अपना कर अपनी रंगारंग महान सभ्यता, राजनीति का शिकार होती हुई अपनी मज़लूम परन्तु जीवित भाषा और उसके साहित्य की क़ाबिले-कद्र रिवायत और अपने युग के इन्सान की आवाज़ बन गये। ‘सरमाया’ उनके जीवन भर की पूँजी है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

KAIFI AAZMI

KAIFI AAZMI परिचय जन्म : 1919, ग्राम मज़वाँ, आज़मगढ़, उत्तर प्रदेश भाषा : हिंदी, उर्दू मुख्य कृतियाँ आख़िरे-शब, झंकार, आवारा सज़दे निधन 10 मई 2002

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality