JIS LAHORE NAI DEKHYA O JAMYAI NAI

Format:Paper Back

ISBN:978-93-8679-974-6

Author:ASGHAR WAJAHAT

Pages:82

MRP:Rs.65/-

Stock:In Stock

Rs.65/-

Details

वरिष्ठ कथाकार और नाटककार असगर वज़ाहत को लोहिया साहित्य सम्मान देने की घोषणा की गई है। यह सम्मान उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान की ओर से दिया जाने वाला दूसरा सर्वश्रेष्ठ सम्मान है। असगर वजाहत हिन्दी के उन चुनिन्दा रचनाकारों में से हैं जिन्होंने हिन्दी के दायरे का सर्जनात्मक विस्तार किया है और अपनी बेहतरीन रचनाओं से उसे भारतीय साहित्य की श्रेष्ठ परम्पराओं के समकक्ष ला खड़ा किया है। अपनी कथा कृतियों में जहाँ उन्होंने किस्सागोई के नये ठाठ को बरकरार रखते हुए एक पूरे इतिहास और समाज की बारीकियों का चित्रण किया है वहीं नाट्यकृतियों में नाट्यधर्मिता का निर्वाह करते हुए साम्प्रादायिकता के चेहरे को बेनकाब किया है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

ASGHAR WAJAHAT

ASGHAR WAJAHAT जन्म : 5 जुलाई 1946, फतेहपुर (उत्तर प्रदेश) भाषा : हिंदी विधाएँ : उपन्यास, कहानी, नाटक मुख्य कृतियाँ उपन्यास : सात आसमान, कैसी आगी लगाई, रात में जागने वाले, पहर-दोपहर, मन माटी, चहारदर, फिरंगी लौट आये, जिन्ना की आवाज, वीरगति नाटक : जित लाहौर नईं वेख्या वो जन्‍म्‍या ई नईं, अकी, समिधा नुक्कड़ नाटक : सबसे सस्ता गोश्त कहानी संग्रह : मैं हिंदू हूँ, दिल्ली पहुँचना है, स्वीमिंग पूल, सब कहाँ कुछ यात्रा संस्मरण : चलते तो अच्छा था, इस पतझड़ में आना आलोचना : हिंदी-उर्दू की प्रगतिशील कविता सम्मान कथा क्रम सम्मान, हिंदी अकादमी, इंदु शर्मा कथा सम्मान संपर्क 79, कला विहार, मयूर विहार, फेज 1, दिल्ली-110091

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality