HOLLYWOOD BOLLYWOOD (HINDI)

Format:Hard Bound

ISBN:81-8143-209-6

Author:ANWAR JAMAL, SAIBAL CHATTERJEE

Pages:144

MRP:Rs.250/-

Stock:In Stock

Rs.250/-

Details

मुंबई के फिल्म-निर्माताओं-निर्देशकों और उनके कैंप से जुड़े लोगों के लिए ये उत्तेजना भरे क्षण हैं। भारत से मनोरंजन का निर्यात 1998 के 40 मिलियन डॉलर से बढ़कर 200 मिलियन डॉलर की सीमा तक पहुंच चुका है। इसलिए कोई भी इस ऐश्वर्य के झांसे में आ सकता है, जो भारतीय सिनेमा के उद्भव को लेकर गढ़ा जा रहा है, संक्षेप में कहें तो बॉलीवुड सिनेमा के इर्द-गिर्द, और यह कहा जा रहा है कि विश्व मंच पर यह एक शक्ति के रूप में उभर रहा है। इस पुस्तक में कुछ ऐसे बहुसूचित लेखों का संकलन है, जिनके माध्यम से भारतीय सिनेमा के वैश्वीकरण की नवजात प्रक्रिया को तमाम चीजों से हटकर उचित दृष्टिकोण से देखने-समझने का प्रयास किया गया है। इसका उद्देश्य यह है कि हर तरीके से, शोर-शराबे से हटकर, इस नई घटना की ऊंचाइयों-निचाइयों को देखा-परखा जा सके और उसके माध्यम से इसकी एक संतुलित तस्वीर सामने आ सके- जो आवश्यक नहीं कि अपने आप में पर्याप्त हो, लेकिन इस नई परिघटना को समझने में जो सहायक हो।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

ANWAR JAMAL, SAIBAL CHATTERJEE

ANWAR JAMAL, SAIBAL CHATTERJEE अनवर साहित्य में स्नात्कोत्तर की शिक्षा प्राप्त अनवर जमाल पहले स्वतन्त्र पत्रकारिता में हाथ आजमा चुके हैं। उनको फिल्म-निर्माण के क्षत्र में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। सैबल चटर्जी: अँग्रेजी में स्नातकोत्तर तक शिक्षा प्राप्त सैबल स्वत्नत्रफ़िल्म समालोचक एवं वरिष्ठ पत्रकार हैं। 1984 से वे द टेली ग्राफ़,टाइर्म्स आफ़ इंडिया, आउटलुक और हिंदुस्तान टाइम्स आनलाइन से जुड़े रहे हैं। 2003 में उन्हे सर्वश्रेष्ठ फिल्म आलोचक का राष्ट्रीय सम्मान भी मिला था। / सैबल चटर्जी अंग्रेजी में स्नातकोत्तर तक की शिक्षा प्राप्त सैबल चटर्जी स्वतंत्र फ़िल्म समालोचक एवं वरिष्ठ पत्रकार हैं। 1984 से वे द टेली ग्राफ, टाईम्स ऑफ़ इंडिया, आउटलुक और हिंदुस्तान टाइम्स ऑनलाइन से जुड़े रहे हैं। उन्हें सन 2003 में सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म आलोचक का राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है। आजकल वे अन्य सैबल चटर्जी प्रकाशनों में लेख लिखने के अलावा हिंदुस्तान टाइम्स की वेबसाईट पर ऑनलाईन कॉलम लिखते हैं। वे एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के एनसाइक्लोपीडिया ऑफ हिंदी सिनेमा के संपादक भी रह चुके हैं।

Books by ANWAR JAMAL, SAIBAL CHATTERJEE

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality