BHARAT BHUSHAN AGRAWAL AUR UNKA KAVYA

Format:

ISBN:81-7055-700-3

Author:MEENA AHUJA

Pages:

MRP:Rs.95/-

Stock:In Stock

Rs.95/-

Details

प्रयोगवाद व नई कविता की व्यक्तिपरक काव्यधारा में भारत जी की अग्रचेता भूमिका रही है। भारत जी का काव्य कवि की काव्य ऊर्जस्विता, अजेय आत्मविश्वास और काव्य शिलप की निराली भंगिमा के कारण अपना वैशिष्ट्य रखता है। जीवन के प्रति अशेष प्रेम, लालसा, अहंबोध, साथ ही ‘पराजय’ व उसका संत्रास भोगते हुए भी अपनी अटूट विश्वसनीयता के कारण भारत जी का काव्य जन-जन में स्पंदन उत्पन्न करने में समर्थ है। प्रस्तुत ग्रंथ कवि भारतभूषण जी की काव्य संपदा को सही संदर्भों में विवेचित करेगा। इसी लक्ष्य को सामने रखकर मीना आहुजा ने इस शोधपरक ग्रंथ की रचना की है। आशा है सुधीजन इसका स्वागत करेंगे।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

MEENA AHUJA

MEENA AHUJA जन्म: इन्दौर (म.प्र.)। शिक्षा: 1976 में उम्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद से एम.ए. (हिन्दी)। 1980 में हैदराबाद विश्वविद्यालय से एम.फिल.। 1988 में उस्मानिया विश्वविद्यालय से पी-एच.डी.। रचनाएं: उर्वशी का सामाजिक संदर्भ (1986)। मुक्तिबोध की कविता का समाजशास्त्रीय अध्ययन (1991)।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality