GOVIND MISHRA : SRIJAN KE AAYAM

Format:

ISBN:81-7055-216-8

Author:CHANDRAKANT VANDIVADEKAR

Pages:

MRP:Rs.495/-

Stock:In Stock

Rs.495/-

Details

चंद्रकांत बांदिवडेकर ने एक जगह लिखा है- ‘दोयम-नियम दर्जे की पुस्तक की कमजोरियों को दिखाते हुए समीक्षा करने की अपेक्षा अपनी शक्ति को अच्छे साहित्य का आस्वादन/समीक्षा/मूल्यांकन में खर्च करना अधिक श्रेयस्कर है...। गोविन्द मिश्र हमारे समय के महत्वपूर्ण साहित्यकार हैं। उपर्युक्त दानों दृष्टियों से उनके समूचे रचना संसार को आलोचनात्मक परिधि में लाना ही प्रस्तुत पुस्तक के संपादन में बांदिवडेकर की प्रेरणा रही है। यहाँ न केवल गोविन्द मिश्र के नवीनतम कथासंग्रह और नौवें उपन्यास ‘फूल...इमारतें और बन्दर’ तक को समेटा गया है, कुछ हिंदी के महत्वपूर्ण हस्ताक्षरों जैसे शैलेश मटियानी, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, विवेकी राय, प्रभाकर, श्रोत्रिय, राजी सेठ, निर्मल वर्मा, परमानंद श्रीवास्तव, पुष्पपाल सिंह आदि के आलेख सम्मिलित किये गये हैं। पुस्तक की महत्वपूर्ण उपलब्धि है हिंदी के मूर्धन्य साहित्यकारों-जैनेन्द्र कुमार, अज्ञेय, भवानी प्रसाद मिश्र, अमृतलाल नागर, अमृत राय, निर्मल वर्मा, धर्मवीर भारती, रवीन्द्रनाथ त्यागी, गिरिराज किशोर, विद्यानिवास मिश्र, नरेश मेहता आदि की पत्र प्रतिक्रियाएं, पाठकों की भी। क्योंकि इन्हीं सब से किसी साहित्यकार का रचना-संसार बनता है तो कह सकते हैं कि यहां गोविन्द मिश्र का संपूर्ण रचना संसार उपस्थित है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

CHANDRAKANT VANDIVADEKAR

CHANDRAKANT VANDIVADEKAR डॉ. चंद्रकांत बांदिवडेकर जन्म: 5 नवम्बर, 1932 (डोर्ले, रत्नागिरी, महाराष्ट्र) शिक्षा: एम.ए.; पीएच.डी. (बम्बई विश्वविद्यालय) प्रकाशित रचनाएँ: हिन्दी और मराठी के सामाजिक उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन; अज्ञेय की कविता: एक मूल्यांकन; उपन्यास स्थिति और गति; कविता की तलाश (केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय द्वारा पुरस्कृत); जैनेंद्रजी के उपन्यास: मर्म की तलाश; आधुनिक हिन्दी उपन्यास: सृजन और आलोचना; मराठी कादंबरी: चिन्तन आणि समीक्षा (मराठी, महाराष्ट्र राज्य शासन एवं महाराष्ट्र साहित्य परिषद द्वारा पुरस्कृत); प्रेमचंद व्यक्ति आणि वाङ्मय (मराठी); मराठी कादंबरीचा इतिहास (मराठी); कथाकार अज्ञेय। अनुवादित ग्रंथ: चानी (चिंतक खानोलकर के मराठी उपन्यास का हिन्दी में अनुवाद, केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय द्वारा पुरस्कृत); ऑक्टोपस (श्री. नापेंडसे के मराठी उपन्यास का हिन्दी अनुवाद); सौंदर्य मीमांसा (डॉ. रा.भा. पारणकर के मराठी ग्रंथ का अनुवाद); इसी मिट्टी से (कुसुमाग्रज की कविताओं का अनुवाद); प्रेमचंद (प्रकाश चंद्र गुप्त की पुस्तक का मराठी अनुवाद)। संपादन: गोविन्द मिश्र: सृजन के आयाम; कथा भारती भाग-2; प्रेमचंद दृष्टि और सृष्टि; साहित्य और दलित चेतना; ज्ञानेश्वर जीवन और कार्य (माता कुसुम कुमारी अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दीतर भाषी हिन्दी लेखक पुरस्कार-1992); समकालीन मराठी कहानी; हरिनारायण व्यास; कथा भारती (भारतीय कहानीकारों की कहानियों का संकलन)। अन्य प्रकाशन: हिन्दी और मराठी के 20 से अधिक संपादित ग्रंथों में लेख समाविष्ट; हिन्दी और मराठी की श्रेष्ठ पत्रिकाओं में 250 से अधिक लेख प्रकाशित। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान की ओर से हिन्दी सेवा के लिए सौहार्द सम्मान पुरस्कार (1989)।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality