KUCHH KAHNA THA TUMSE

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-617-4

Author:RANVIR SINGH CHAUHAN

Pages:127

MRP:Rs.200/-

Stock:In Stock

Rs.200/-

Details

जिस तरह रंग और मौसम अपनी ज़ुबानों में बातें करते हैं, उसी तरह इन्सानी फ़िक्र और सोच अपनी अलग भाषा और अलग शब्दकोश रखती है। इस भाषा और शब्दकोश को समझना और उससे दोस्ती करना दिन के उजाले में जुगनू पकड़ने का हुनर है। अपनी सोच को हूबहू शब्द दे देना, किसी बाँझ कैनवास की गोद भरने समान है। रणवीर सिंह की नन्ही-मुन्नी नज़्म इस फ़न से वाकिफ़ है - उनकी नज़्मों का अचानकपन उन्हें दूसरों से अलग होने का ऐलान करता है। एक ऐसे ओहदे पर जहाँ शब्द-शब्द और सोच-सोच समझौते जरूरी हों, वहाँ ‘रणवीर’ अगर खुली ज़ुबान से बोलते हैं, तो उनकी तारीफ़ होनी चाहिए।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

RANVIR SINGH CHAUHAN

RANVIR SINGH CHAUHAN रणवीर सिंह चौहान भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं तथा उत्तराखण्ड में कार्यरत हैं। इनका जन्म उत्तराखण्ड के देहरादून जिले के गाँव कुवानू में हुआ। उन्होंने अपनी पढ़ाई लखनऊ में सेंट फ्रांसिस कॉलेज तथा लखनऊ विश्वविद्यालय से प्राप्त की। स्कूल के समय से इन्हें संगीत तथा रंगमंच में रुचि रही। नौकरी में मसरूफियत की वजह से ये सब धीरे-धीरे पीछे छूट गया मगर शायद इनसान अपनी बुनियादी फितरत से बहुत दिन तक दूर नहीं रह पाता है। इसीलिए ये अपनी जिन्दगी के खट्टे मीठे तीखे और बेस्वाद एहसासात को नज़्मों की शक्ल देने लगे। इन्हीं में से कुछ कविताओं को इस किताब के जरिये आपको समर्पित किया जा रहा है।

Books by RANVIR SINGH CHAUHAN

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality