Stanislavski : Abhineta Ki Taiyari

Format:Paper Back

ISBN:978-93-5072-890-1

Author:DR. VISHWAANATH MISHRA

Pages:200

MRP:Rs.250/-

Stock:In Stock

Rs.250/-

Details

गाँव, भाषा, माँ, पिता, जाति, धर्म-इन सभी दृष्टियों से मैं खंडित हूँ। गुमशुदा व्यक्तित्व लिये जीने वाला...मेरे अस्तित्व को ‘जारज' कहकर सतत अपमानित किया गया है। ब्राह्मणों से लेकर शूद्रों तक सभी अपने खानदानी अभिमान और खानदानी अस्मिता लिये जीते हैं; परन्तु यहाँ मेरी अस्मिता पर ही बलात्कार हुआ है। बलात्कृत स्त्री की तरह मेरा यह जीवन। यहाँ की नीति ने मेरे साथ एक अपराधी की तरह ही आचरण किया है। मेरे जन्म को ही यहाँ अनैतिक घोषित किया गया है। दुर्बलों पर आक्रमण करते समय, उनका शोषण करते समय सबलों ने हमेशा उनकी अबलाओं पर अत्याचार किये हैं। इन सबलों को यहाँ की सत्ता, सम्पत्ति, समाज, संस्कृति और धर्म ने समर्थन दिया है; परन्तु उस स्त्री का क्या होगा? उसे तो वह ‘बलात्कार' अपने पेट में बढ़ाना पड़ता है। उस ‘बलात्कार' को जन्म देना पड़ता है। उस ‘बलात्कार' का पालन-पोषण करना पड़ता है और वह बलात्कार एक जीवन जीने लगता है। उसी जीवन की वेदना इस आत्मकथा में है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

DR. VISHWAANATH MISHRA

DR. VISHWAANATH MISHRA

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality