LUXMINARAYAN LAL KA NATYA SAHITYA : SAMAJIK DRISHTI

Format:

ISBN:9789352293094

Author:DR. KARUNA SHARMA

Pages:

MRP:Rs.250/-

Stock:In Stock

Rs.250/-

Details

वर्तमान युग में सामाजिक चेतना की निरन्तर बढ़ती गतिशीलता और परम्परागत रूढ़ियों और व्यवस्थाओं की जड़ता के बीच ज़रदस्त संघर्ष और तनाव बना हुआ है। मानव की हृदयगत अभिव्यक्ति के सशक्त और प्रभावपूर्ण साहित्यांगों में नाटक मूर्धन्य स्थान का अधिकारी है। यही कारण है कि आधुनिक नाटकों का मूल-स्वर इसी संघर्ष और तनाव से भरा हुआ है। बहुमुखी प्रतिभा, के धनी लक्ष्मीनारायण लाल का सम्पूर्ण नाट्य-साहित्य अपने परिवेश के प्रति गहरी जागरूकता लिए हुए है। परिवेश क प्रति यह जागरूकता उन्हें सामाजिकता से संलग्न कर देती है। वस्तुतः समकालीन समाज का जीवन्त साक्षात्कार ही लाल के नाटकों की संवेदना का मूलाधार है। उनकी दृष्टि किसी एक बिन्दु पर केन्द्रित न होकर जीवन के खण्ड-खण्ड अनुभवों को वाणी देकर समग्र परिवेश को ही दर्शकों एवं पाठकों के सामने साकार कर देती है। करुणा ने अपने इस ग्रन्थ में लाल की विराट सामाजिक दृष्टि को विभिन्न कोणों से उद्घाटित किया है। ‘लक्ष्मीनारायण लाल के नाटक-साहित्य में व्यक्त उनकी सामाजिक दृष्टि’ जैसा अध्ययन प्रेरक और उत्तेजक बन पड़ेगा। आशा है लेखिका की यह रचना शीघ्र-प्रबन्ध, आलोचा, समीक्षा, मूल्याँकन से आगे साहित्य की एक धरोहर सिद्ध हो सकेगी।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

DR. KARUNA SHARMA

DR. KARUNA SHARMA जन्म: 10 मार्च, 1967 पलवल जिला फरीदाबाद (हरियाणा) शिक्षा: पंजाब विश्वविद्यालय चण्डीगढ़ से बी.ए. (प्रथम श्रेणी), बी.एड. (प्रथम श्रेणी), एम.ए. हिन्दी (प्रथम श्रेणी) तत्पश्चात हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला से एम.फिल. (प्रथम श्रेणी, प्रथम स्थान, स्वर्ण पदक) पी.एच.डी. (सन् 1993 ‘लक्ष्मीनारायण लाल के नाटक-साहित्य में व्यक्त उनकी सामाजिक दृष्टि’ विषय पर शोध), एम.एड. (प्रथम श्रेणी, प्रथम स्थान, स्वर्ण पदक से सम्मानित)। लेखन/प्रकाशन: कादम्बिनी, नन्दन, अणुव्रत, दैनिक रंगभूमि आदि पत्रा-पत्रिकाओं में कविताएँ प्रकाशित। अभिरुचि: काव्य-लेखन, पठन, यात्रा, संगीत। सम्प्रति: अध्यापन। सम्पर्क: ई-68, आवासीय परिसर (पूर्व) अखिल भारतीय आयुविज्ञान संस्थान अंसारी नगर, नयी दिल्ली-110029

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality