Subramanyam Bharti Award to Shri Sheoraj Singh Bechain


    Date: 17 April 2015

    ------------------------------------------------------------------------------------
    श्री श्यौराज सिंह बेचैन को `सुब्रमण्यम भारती पुरस्कार` 2014
    ------------------------------------------------------------------------------------
    सुप्रसिद्ध चिंतक श्री श्यौराज सिंह बेचैन को केन्द्रीय हिन्दी संस्थान, आगरा के प्रतिष्ठित `सुब्रमण्यम भारती पुरस्कार` 2014 से सम्मानित करने की घोषणा की गयी है। श्री बेचैन को यह पुरस्कार उनके सृजनात्मक लेखन के लिए प्रदान किया जायेगा।

    लेखक श्यौराज सिंह बेचैन की हृदयस्पर्शी आत्मकथा ‘मेरा बचपन मेरे कन्धों पर’ दलित लेखन साहित्य में एक नया अध्याय जोड़ती है। श्री बेचैन की आत्मकथा अनेक सामाजिक, राजनैतिक परिप्रेक्ष्य के ताने बाने बुनती है और कई मौलिक सवाल खड़े करती है। ये सवाल मौजूदा दलित आंदोलन की आंतरिक बुनावट में बदलाव को दृष्टांगित करते हैं और आर्य समाजी अथवा गांधीवादी सुधार आंदोलनों की सीमाओं पर भी बेबाक टिप्पणी पेश करते हैं। वाणी प्रकाशन से श्री बेचैन की आत्मकथा ‘मेरा बचपन मेरे कन्धों पर’, आलोचनात्मक पुस्तक ‘सामाजिक न्याय और दलित साहित्य’, काव्य संग्रह ‘नई फसल कुछ अन्य कविताएँ’ तथा उनके जीवन आधारित डॉ. धर्मवीर की आलोचनात्मक पुस्तक ‘बालक श्यौराज : महा शिलाखंडों का संग्राम’ प्रकाशित हैं।

    श्री श्यौराज सिंह बेचैन को इस पुरस्कार के लिए वाणी प्रकाशन व समूची साहित्यिक बिरादरी की ओर हार्दिक बधाई।



    << Back to Media News List