SURAJ BADATIYA

दस्तावेजी तिथि के अनुसार सूरज बड़त्या का जन्म 15 जनवरी 1974 को हुआ। सूरज बड़त्या की शिक्षा - बी.ए. इतिहास (दिल्ली विश्वविद्यालय), एम.ए. हिन्दी (स्वर्ण-पदक) दिल्ली विश्वविद्यालय, एम.फिल. (हरिशंकर परसाई के व्यंग्य निबन्धों की आलोचना), पीएच.डी. (सत्ता संस्कृति का वर्चस्ववादी विमर्श और दलित चेतना) दिल्ली विश्वविद्यालय से, पत्रकारिता में डिप्लोमा (कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय)। इनका अध्यापन - दिल्ली विश्वविद्यालय के अरविन्दो कॉलेज, पत्राचार पाठ्यक्रम, नॉन कालिजिस्ट, वेंकटेश्वरा कॉलेज। सूरज बड़त्या के सन् 1997 से कविता लेखन, राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्रों में समीक्षा, लेख प्रकाशित हुए हैं। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में कविताएँ, कहानियाँ, रिसर्च पेपर, पुस्तक समीक्षाएँ इत्यादि प्रकाशित हुई हैं। इग्नू के एम.ए. दलित साहित्य के लिए पाठ्यक्रम नोट्स लेखन। कविताएँ अनूदित अंग्रेजी भाषा की पुस्तकों में प्रकाशित हुई हैं। कृतित्व - दलित साहित्य पक्ष-प्रतिपक्ष, दलित साहित्य का सौन्दर्यशास्त्र, बाबू मंगूराम और आदि धर्म आन्दोलन। इनकी सम्पादित पुस्तकें हैं - भारतीय दलित साहित्य का विद्रोही स्वर (विमल थोरात-सूरज बड़त्या), प्रभुत्व एवं प्रतिरोध, भारतीय दलित कहानियाँ (विमल थोरात-सूरज बड़त्या), कविता संग्रह (प्रकाशनाधीन)। सूरज बड़त्या ने ‘संघर्ष’ त्रैमासिक पत्रिका का सम्पादन किया है, ‘युद्धरत आम आदमी’ त्रैमासिक पत्रिका का सम्पादन किया है। ‘दलित अस्मिता’ त्रैमासिक पत्रिका में फिलहाल सहायक सम्पादक हैं। मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार, 1999; लोकसूर्या साहित्य सम्मान (महाराष्ट्र), 2009; वाणी विचार मंच, साहित्य सम्मान (पंजाब), 2009 से सम्मानित किये गये हैं। वर्तमान समय में दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीम्ड यूनिवर्सिटी) में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर हैं।

SURAJ BADATIYA

Books by SURAJ BADATIYA