MANISHA KULSHRESHTHA

जन्म: 26 अगस्त, 1967, जोधपुर। शिक्षा: बी.एससी., एम.ए. हिन्दी साहित्य), एम.फिल. विशारद (कथक)। प्रकाशित कृतियाँ: कहानी संग्रह: कठपुतलियाँ, कुछ भी तो रूमानी नहीं, केयर ऑफ स्वात घाटी, गन्धर्व-गाथा, बौनी होती परछाईं। उपन्यास: शिगाफ, शालभंजिका। अन्य: ‘नया ज्ञानोदय’ में इंटरनेट और हिन्दी पर लिखी लेखमाला की पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य। अनुवाद: माया एंजलू की आत्मकथा ‘वाय केज्ड बर्ड सिंग’ के अंश, लातिन अमरीकी लेखक मामाडे के उपन्यास ‘हाउस मेड ऑफ डॉन’ के अंश, बोर्हेस की कहानियों का अनुवाद। पुरस्कार व सम्मान: चन्द्रदेव शर्मा सम्मान, 1989 (राजस्थान साहित्य अकादमी); कृष्ण बलदेव वैद फैलोशिप, 2007; डॉ. घासीराम वर्मा सम्मान, 2009; रांगेय राघव पुरस्कार वर्ष 2010 (राजस्थान साहित्य अकादमी)। बहुचर्चित उपन्यास ‘शिगाफ’ का हायडलबर्ग (जर्मनी) के साउथ एशियन मॉडर्न लैंग्वेजेज़ सेंटर में वाचन। सम्प्रति: स्वतंत्र लेखन और इंटरनेट की पहली हिन्दी वेबपत्रिका ‘हिन्दीनेस्ट’ का ग्यारह वर्षांे से सम्पादन। हिन्दीनेस्ट के अलावा, वर्धा विश्वविद्यालय की वेबसाइट ‘हिन्दी समय डॉट कॉम’ का निर्माण, संगमन की बेबसाइट ‘संगमन डॉट कॉम’ का निर्माण व देखरेख। वर्तमान पता: 9/96, अर्जन विहार, दिल्ली कैंट, नई दिल्ली। स्थायी पता: 65 गिरनार कॉलोनी (साउथ), आदित्य विहार, गांधी पथ, वैशाली नगर, जयपुर। ईमेल: manishakuls@gmail.com

MANISHA KULSHRESHTHA

Books by MANISHA KULSHRESHTHA