Ramdhari Singh Dinkar

रामधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितम्बर 1908 को बिहार के बेगूसराय जिला के सिमरिया ग्राम में हुआ था। उनके पिता जी बाबू रवि सिंह एक साधारण किसान थे एवं माता मनरूप देवी एक कुशल गृहिणी। रामधारी सिंह दिनकर प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद पढ़ने के लिए कई किलोमीटर पैदल चलकर मध्य विद्यालय से लेकर मेट्रिक परीक्षा पास की। मैट्रिक परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने के कारण उन्हें 'भूदेव स्वर्ण पदक' दिया गया। 1932 में पटना कॉलेज़ से इतिहास में प्रतिष्ठा हासिल की। पारिवारिक बोझ के कारण हाई स्कूल बरबीघा (मुंगेर) में वर्ष 1933-34 में प्राध्यापक पद स्वीकार किये। सब रजिस्ट्रार से लेकर जन सम्पर्क विभाग, बिहार के उप-निदेशक के पद पर उन्होंने कार्य किया। स्नातक की डिग्री होने के बावजूद साहित्य से गहरे लगाव और विषय में दक्षता के कारण सन् 1950 में लंगट सिंह कॉलेज, मुजफ़्फ़रपुर में हिन्दी के प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष पद पर नियक्ति हुई। 1952 में जब भारत की प्रथम संसद का निर्माण हुआ तो उन्हें राज्यसभा से निर्वाचित किया गया जो लगभग 12 वर्षों तक रहे। बाद में दिनकर जी सन 1964-1965 तक भागलपुर विश्वविद्यालय का कलपति रहे। वर्ष 1965 से 1971 तक भारत सरकार के प्रथम हिन्दी सलाहकार के रूप में उन्होंने बहुत ही महत्त्वपूर्ण कार्य किये। राष्ट्रकवि दिनकर ने विभिन्न पदों पर रहते हुए साहित्य सृजन में कोई कमी न की और प्रमुख कृति रेणुका, हुंकार, रसवन्ती, द्वन्द्वगीत, कुरुक्षेत्र, सामधेनी, रश्मिरथी, उर्वशी, संस्कृति के चार अध्याय एवं अन्य का प्रकाशन किये। सन् 1973 में 'उर्वशी' काव्य प्रबन्ध के लिए उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार से नवाजा गया। लोग उन्हें गर्जन और हुंकार के कवि के रूप में जानते थे, लेकिन जिस प्रकार प्रकाश के अनेक रंग होते हैं, ठीक उसी प्रकार दिनकर की कविता के भी कई रंग हैं। दिनकर सात्त्विक क्रोध, कोमल करुणा और अनुपम सौन्दर्य के अद्भुत कवि थे। आज भी उनकी कृतियों के अध्ययन, मनन और अनुशीलन से अन्याय एवं शोषण के खिलाफ़ संघर्ष की अद्भुत शक्ति मिलती है। दिनकर जी ने अपनी पचास से अधिक ओजस्वी कृतियों के माध्यम से राष्ट्रीयता की भावना को मज़बूती प्रदान की है और भारत एवं भारतीय संस्कृति को गौरवान्वित किया है। हिन्दी भाषा और साहित्य को समृद्ध करने में दिनकर जी का योगदान अप्रतिम है। वर्ष 1974 में चेन्नई (तमिलनाडु) में लालाजी तिरुपति दर्शन करने गये थे। दर्शन के कुछ घण्टे के बाद उनका देहान्त हो गया। लेखक परिचय राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर स्मृति न्यास डॉट कॉम से

Ramdhari Singh Dinkar

Books by Ramdhari Singh Dinkar