Edited by Hirday Kant Dewan, Shivani Negi, Manoj Kumar and Manish Jain

शिवानी नाग डॉ. बी.आर. आम्बेडकर विश्वविद्यालय दिल्ली, नयी दिल्ली के स्कूल ऑफ़ एजुकेशन स्टडीज़ में सहायक प्राध्यापक हैं। वे पिछले एक दशक से शिक्षा और सामाजिक मसलों पर लेखन एवं एक्टिविज़्म से जुड़ी हुई हैं। उनके लेखन, अध्यापन और शोध के मुख्य विषय हैं : 'क्रिटिकल और फेमिनिस्ट पेडागाजी' (आलोचनात्मक और नारीवादी शिक्षणशास्त्र), बहुभाषी शिक्षण, शिक्षा में हाशिये का समावेश और ज्ञान तथा सीखने के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धान्त। ई-मेल : shivani@aud.ac.in / हृदय कान्त दीवान अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय, बेंगलूरु में प्राध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। वे अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के ‘अनुवाद पहल' कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं। ई-मेल : hardy@azimpremjifoundation.org / मनोज कुमार अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ एजुकेशन में सहायक प्राध्यापक हैं। वे विश्वविद्यालय के एम.ए. एजुकेशन प्रोग्राम के विद्यार्थियों को शिक्षा का समाजशास्त्र और राजनीतिक-अर्थशास्त्र पढ़ाते हैं। विश्वविद्यालय में अध्यापन के अतिरिक्त मनोज ने 'दिगन्तर' और 'रूम टू रीड' आदि स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ मिलकर सेवारत शिक्षक-प्रशिक्षण, बाल-साहित्य, भाषा-शिक्षण और साक्षरता के क्षेत्र में काम किया है। वे पिछले दो दशक से शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में सक्रिय हैं। ई-मेल : manoj.kumar@apu.edu.in

Edited by Hirday Kant Dewan, Shivani Negi, Manoj Kumar and Manish Jain