György Dragomán

जॉर्ज द्रौगोमान का जन्म रोमानिया के मॉरोशवाशारहैय नामक स्थान पर 1973 में हुआ। सन् 1988 में, मात्र पन्द्रह वर्ष की आय में यह परिवार सहित हंगरी आकर बस गये। स्कूली शिक्षा हंगरी में 'सोमबॉतहैय' में हुई, उसके बाद बुदापैश्त में विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। अंग्रेजी और फ़िलॉस्फी में एम.ए. करने के बाद वहीं पीएच.डी. की डिग्री हासिल की। उसी बीच इन्होंने अपना पहला उपन्यास (पुस्तिताश कन्यवै) अर्थात् 'विध्वंस की पुस्तक' लिखा जो 2002 में छपा और अपने पहले उपन्यास से ही यह हंगरी में बेहद लोकप्रिय हो गये। 2003 में इन्हें ब्रोदी पुरस्कार मिला, उसी वर्ष शरश पुरस्कार भी। 2005 में इनका उपन्यास (A Feber Kiraly) यानी 'सफ़ेद बादशाह' छपा, जिसके लिए इन्हें हंगरी के सभी साहित्यिक पुरस्कार मिले। अमरीका में 'टाइम्स' में इनका इण्टरव्यू छपा और करीब-करीब सभी यूरोपीय भाषाओं में इसका अनुवाद हुआ। जॉर्ज की पत्नी ऑन्ना. टी. सॉबो भी हंगरी की एक विख्यात कवयित्री हैं। उन्होंने भी हंगरी का कोई साहित्यिक पुरस्कार ऐसा नहीं है जो न पाया हो। इनके दोनों बच्चों का जन्म दोनों उपन्यासों के छपने के ही वर्षों में हुआ। पहला पुत्र 2002 में और दूसरा पुत्र 2005 में जन्मा। जॉर्ज लेखन के अतिरिक्त अनुवाद कार्य भी कर रहे हैं। शेक्सपियर, बैकैट, आदि के इनके अनुवाद भी काफ़ी लोकप्रिय हैं।

György Dragomán

Books by György Dragomán