RAJKRISHAN MISHRA

राजकृष्ण मिश्र जन्म : 3 अगस्त, 1940 को वाराणसी में। सृजन : खलील जिब्रान और गुरुदेव टैगोर की गीतांजलि की परंपरा में 'कामना का क्षितिज' शीर्षक से रेखाचित्र (1975), उपन्यास-त्रयी काउंसिल हाउस', 'दारूलशफ़ा' और 'मंत्रिमंडल' (1996), 'हैलो' (उपन्यास-1985) और 'कुतो मनुष्यः (उपन्यास-1994), 'चालान' (नाटक1978), 'बजट' (नाटक-1996), 'आईना' (कहानी-संग्रह-1996), 'बिखराव का संकट (निबंध-संग्रह-1996) में प्रकाशित। संप्रति : 'सरस्वती' पत्रिका के पुनर्प्रकाशन और पूर्णकालिक लेखन में संलग्न। सम्मान : वर्ष 1984, 1985 में साहित्य अकादमी के लिए 'सचिवालय' (काउंसिल हाउस) नामांकित। आपकी कृतियों पर लखनऊ विश्वविद्यालय में स्वतंत्र शोधकार्य चल रहा है। पिछले डेढ़ दशक • से विभिन्न विश्वविद्यालयों के स्नातकोत्तर पी-एच. डी., डी.लिट् के शोध ग्रंथों में उपन्यास त्रयी के शुरुआती दो खंडों को रेखांकित और उल्लेखित किया जा रहा है। संपर्क : 48, वाल्मीकि मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ।

RAJKRISHAN MISHRA

Books by RAJKRISHAN MISHRA