Priyadarshini Vijayshri Translated by Vijay Kumar Jha

प्रियदर्शिनी विजयश्री जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के इतिहास अध्ययन केन्द्र से उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद आजकल विकासशील समाज अध्ययन पीठ (सीएसडीएस) में एसोसिएट फैलो। अंत्यज समुदायों के अतीत पर अनुसंधान करते हुए अस्मिता, सेक्शुअलिटी और धर्म संबंधी आयामों पर विशेष ज़ोर। आजकल एक संरचना के रूप में जाति पर पुनर्विचार और उसकी सीमाओं की पुनः परिभाषा की आवश्यकता रेखांकित करने वाले मुद्दों पर सोच-विचार में संलग्न। शीघ्र प्रकाश्य : इन दि परसूट ऑव वरजिन व्होर। विजय कुमार झा गणितशास्त्र में स्नातकोपरांत दर्शन एवं साहित्य के रास्ते मार्क्सवाद का अध्ययन। मार्क्सवाद और नारीवाद के बीच स्वस्थ संबंध की तफ्तीश के क्रम में महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय से स्त्री-अध्ययन में एम.ए. और एम.फिल. करने के बाद पीएच.डी. का अध्ययन । एम.फिल. में जाति, वर्ग और जेंडर के बीच के गठजोड़ के स्वरूप पर प्रबंध। पीएच.डी. की थीसिस का विषय 'अठारहवीं सदी के मिथिलांचल में जाति, वर्ग और जेंडर'। एंतोनिओ ग्राम्शी और टेरी ईगलटन से प्रभावित। ‘ग्राम्शी' पर पुस्तक लेखन जारी। उमा चक्रवर्ती की किताब 'जेंडरिंग कास्ट' का अनुवाद।

Priyadarshini Vijayshri Translated by Vijay Kumar Jha

Books by Priyadarshini Vijayshri Translated by Vijay Kumar Jha