यौन दासियाँ: एशिया का सेक्स बाज़ार

Format:Hard Bound

ISBN:81-8143-406-4

लेखक:लुइज़ ब्राउन

Pages:220

मूल्य:रु395/-

Stock:In Stock

Rs.395/-

Details

यह धारणा सही नहीं है कि एशिया में होने वाली गर्म गोश्त की तिजारत में यौन दासियों के खरीदार केवल विदेशी ग्राहक हीे होते हैं। यह शोधपरक पुस्तक साबित कर देती है कि पश्चिम से आने वाले सेक्स पर्यटक इस घिनौनी तिजारत में उल्लेखनीय भूमिका जरूर निभाते हैं, पर असलियत यही कि एशिया के सेक्स बाजार में बिकाऊ माल के मुख्य खरीदार एशियायी पुरुष हैं, फिर यह गर्म गोश्त चाहे वयस्क यौन दासियों का हो या बाल-वेश्याओं का।

Additional Information

Translated by Kalpana Varma

About the writer

LOUISE BROWN

LOUISE BROWN लुइज़ ब्राउन बर्मिघम विश्वविद्यालय में एशियायी स्टजीज़ की प्रोफेसर, अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम की निदेशक और एशियायी सेक्स इंडस्ट्री से संबंधित एचआईवी/एड्स रिसर्च प्रोजेक्ट की संचालक हैं। पिछले दिनों वे वेश्यावृत्ति पर अपने अकादमीय शोध के लिए लाहौर के पुराने वेश्याबाज़ार हीरा मंडी में पाँच दिन तक रहीं और इससे संबंधित फील्ड वर्क भी पाँच महीने तक किया। लुइज़ ब्राउन ने अपनी विख्यात पुस्तक 'यौन दासियाँ' (सेक्स स्लेब्ज़) में एशियायी सेक्स बाज़ार के उन अछूते पहलुओं को उजागर किया है जो पिछले दिनों जापान में हुई एक ब्रिटिश बार होस्टेस की हत्या के बाद सामने आने शुरू हुए हैं। यह पहलू है वेश्यावृत्ति के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर औरतों की तिजारत। हालाँकि औरतों की खरीद-बेच का यह कारोबार कई शताब्दियों से सारी दुनिया में चल रहा है, और इसमें एशिया की भूमिका भी कोई नयी नहीं है, पर इसके नए और चौंका देने वाले आयाम हैं : इसका विस्तार, इसकी मात्रा, वेश्यावृत्ति में धकेली जाने वाली स्त्रियों की घटती हुई उम्र, इस तिजारत में लगे हुए संगठनों का आधुनिक और ग्लोबल चरित्र। लुइज़ ब्राउन का विचार है कि एशियायी सेक्स इंडस्ट्री का मूल स्त्रोत एशियायी सांस्कृतिक मूल्य ही हैं। हालाँकि उनका यह परिप्रेक्ष्य कुछ लोगों को विवादास्पद और विलक्षण लग सकता है, पर उनके तथ्यों और विश्लेषण से साबित हो जाता है कि 'एशियायी मूल्यों' की तथाकथित अंतर्निहित संपूर्णता अपने आप में एक मिथक के अलावा कुछ महींहै। ब्राउन दिखाती हैं कि केवल पश्चिमी पर्यटक ही नहीं, बल्कि एशियायी ग्राहक भी बड़े पैमाने पर इन वैश्याओं के खरीदार हैं। पुस्तक की सामग्री जुटाने के लिए ब्राउन ने यौन कर्मियों, उनके परिजनों, ग्राहकों और उनके हितों के लिए काम करने वाले कल्याणकारी संगठनों के पदाधिकारियों के साथ मुलाकातें कीं। इन लोगों के कथन पुस्तक की.. प्रामाणिकता में वृद्धि करते हैं।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality