होमियोपैथिक और बायोकैमिक चिकित्सा

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-408-8

लेखक:डॉ. एम.बी.एल. सक्सेना

Pages:452

मूल्य:रु995/-

Stock:In Stock

Rs.995/-

Details

प्रायः होमियोपैथी और बायोकैमिक चिकित्सा पद्धति का समन्वय एक पुस्तक में कम ही मिलता है। इस कमी को दूर करने के लिए यह पुस्तक उसकी एक कड़ी है। कुछ ऐसी जानकारियाँ जैसे होमियोपैथी के क्रोनिक, उपचार में ध्यान रखने योग्य बातें, प्रतिरोधक आदि जो अन्य पुस्तकों में एक स्थान पर उपलब्ध नहीं हैं इस पुस्तक में हैं। पुस्तक के अध्याय चिकित्सा की दृष्टि से गहराई तक लिखे गये हैं। रोग में कौन सी औषधि प्रयोग की जाए और किस आधार पर दी जाए। रोग में किस पोटेन्सी (शक्ति) का प्रयोग किया जाए इस पुस्तक में इस कठिनाई को भी दूर कर दिया है, जो इस पुस्तक का मूल बिन्दु है। यह पुस्तक छोटे रूप में गागर में सागर है। यह पुस्तक चिकित्सकों के साथ-साथ चिकित्सा की दृष्टि से आम जनता के लिए भी उपयोगी सिद्ध होगी।

Additional Information

होमियोपैथी के आविष्कारक डॉ. हेनिमेन द्वारा प्रतिपादित सिद्धान्तों के अनुसार जिस औषधि का मूल रूप (क्रूड फार्म) में सेवन करने पर स्वस्थ मनुष्य के शरीर में कुछ लक्षण उत्पन्न होते हैं और वही लक्षण जब अस्वस्थ मनुष्य में भी पाये जाते हैं तब उसी दवा को शक्तिकृत करने के बाद औषधि रूप में अस्वस्थ मनुष्य को सेवन कराने पर उस रोग के लक्षण समाप्त हो जाते हैं और रोगी अपने आपको स्वस्थ महसूस करता है। लक्षणों के आधार पर दवा निकाल कर रोगी को दी जाती है और रोगी निरोग हो जाता है। लक्षणों के आधार पर दवा निकाल कर रोगी का इलाज करना ही होमियोपैथी कहलाती है। मनुष्य के शरीर में अजैव अथवा 12 अकार्बनिक लवण तत्त्व होते हैं। अगर इन तत्त्वों के अनुपात में कोई अन्तर आ जाता है तब रोग उत्पन्न हो जाता है, और उसी तत्त्व की पूर्ति अति सूक्ष्म (शक्तिकृत) औषधि के द्वारा कर दी जाती है तो शरीर स्वस्थ हो जाता है। यही बायोकैमिक चिकित्सा पद्धति कहलाती है।

About the writer

DR. M.B.L. SAXENA

DR. M.B.L. SAXENA डॉ. एम. बी. एल. सक्सेना एम.एससी., पीएच.डी., डी.एच.एम.बी. (गोल्ड मेडेलिस्ट), आर.एम.पी. कृषि वैज्ञानिक रह चुके हैं। ये केन्द्रीय रूक्ष अनुसन्धान जोधपुर से प्रधान वैज्ञानिक के पद से वर्ष 1992 में सेवानिवृत्त हुए। सेवा काल से अब तक तीस वर्ष से अधिक समय से ये होमियोपैथिक एवं बायोकैमिक चिकित्सा पद्धति में कार्यरत हैं। इस क्षेत्र में इन्होंने अनेक असाध्य रोगों का उपचार किया है और असीम सफलता एवं ख्याति पायी है। होमियोपैथिक एवं बायोकैमिक चिकित्सा पद्धति द्वारा सस्ती, सटीक और सम्पूर्ण चिकित्सा हो जाने से प्रेरित होकर और इस चिकित्सा पद्धति को सर्वजन तक पहुँचाने के लिए इन्होंने इस विषय पर अनेक पुस्तकें लिखी हैं। प्रकाशित पुस्तकें हैं -‘शिशु एवं बाल रोग चिकित्सा’, ‘होमियोपैथिक चिकित्सा’, ‘स्वयं करें होमियोपैथी चिकित्सा और व्यावहारिक होम्योपैथिक चिकित्सा’ (हिन्दी में), ‘सेल्फ हेल्प होमियोपैथिक रेमेडीज’, ‘क्लिनिकल डायरेक्ट्री ऑफ होमियोपैथी’, और ‘हील योर सेल्फ विद होमियोपैथी’ (अंग्रेजी में)। इन्होंने होमियोपैथिक विषय पर भी अनेक लेख लिखे हैं जो पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। स्वास्थ्य और स्वास्थ्य सम्बन्धी सेवाओं के लिए इन्हें जोधपुर होमियोपैथिक एसोसिएशन ने प्रशंसा पत्र, इंडियन बोर्ड ऑफ एजूकेशन एंड रिसर्च औैर इंटरनेशनल मेडिकल फाउंडेशन कोलकाता ने मिलकर गोल्ड मेडिल देकर सम्मानित किया है।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality