भारतीय भाषाओं में रामकथा: पहाड़ी भाषा

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5229-050-5

लेखक:कारेल चापेक अनुवादक निर्मल वर्मा

Pages:112

मूल्य:रु250/-

Stock:In Stock

Rs.250/-

Details

भारतीय संस्कृति के विभाजन को केन्द्र में रखते हुए भारतीय भाषाओं एवं राज्यों को पृथक्-पृथक् खंडों में बाँटने वाले विदेशी राजतन्त्रों के कारण भारत बराबर टूटते हुए भी, अपने सांस्कृतिक सन्दर्भों के कारण, अब भी एक सूत्रा में बँधा है। एकता के सूत्रा में बाँधने वाले सन्दर्भों में राम, कृष्ण, शिव आदि के सन्दर्भ अक्षय हैं। भारतीय संस्कृति अपने आदिकाल से ही राममयी लोकमयता की पारस्परिक उदारता से जुड़ी सम्पूर्ण देश, उसके विविध प्रदेशों एवं उनकी लोक व्यवहार की भाषाओं में लोकाचरण एवं सम्बद्ध क्रियाकलापों से अनिवार्यतः हजारों-हजारों वर्षों से एकमेव रही है। सम्पूर्ण भारत तथा उसकी समन्वयी चेतना से पूर्णतः जुड़ी इस भारतीय अस्मिता को पुनः भारतीयों के सामने रखना और इसका बोध कराना कि पश्चिमी सभ्यता के विविध रूपों से आक्रान्त हम भारतीय अपनी अस्मिता से अपने को पुनः अलंकृत करें। भारतीय भाषाओं में रामकथा को जन-जन तक पहुँचाने का यह हमारा विनम्र प्रयास है। पहाड़ी भाषा में रामकथा का अति महत्त्व है। आज के परिवर्तनशील युग में मानव आधुनिकता की दौड़ में, चकाचौंध में सुखशान्ति की अपेक्षा रखता है, जो नितान्त असम्भव है। भारतीय संस्कृति के उच्च आदर्श, नैतिकता, सामाजिकता का जो निदर्शन रामकथा में लक्षित होता है, उनका थोड़ा-सा भी चिन्तन-मनन करें, तो मानव को एक स्वर्गिक आनन्द की प्राप्त होगी, जिसकी आज के युग में महती आवश्यकता है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

DR.NIDHI SINHA

DR.NIDHI SINHA जन्म: 23 दिसम्बर 1960 शिक्षा: एम.ए. (हिन्दी, चित्राकला); डी.फ़िष्ल्; डी. लिट्. शैक्षिक उपलब्धियाँ: शैक्षिक सलाहकार (इग्नू); हिन्दी-संस्कृत वार्ताकार, आकाशवाणी, नजीबाबाद प्रकाशन: सन्त पानपदास का साहित्य विभिन्न पत्रिकाओं में अनेक लेख प्रकाशित शोध परियोजना: यू.जी.सी. द्वारा प्रदत्त तीन लघुशोध परियोजना पूर्ण सम्प्रति: एसोसिएट प्रोफेसर, हिन्दी विभाग, डी.ए.वी. (पी.जी.) कालेज, देहरादून सम्पर्क: 8/21, तपोवन एन्क्लेव, उपडाकघर-तपोवन, देहरादून-248001 (उत्तराखण्ड) फोन: 0135-2787931 ई-मेल: nidhisinha1960@gmail.com

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality