भारत में पब्लिक इंटैलैक्चुअल

Format:Paper Back

ISBN:978-93-8740-81-1

लेखक:

Pages:160

मूल्य:रु299/-

Stock:Out of Stock

Rs.299/-

Details

भारत में पब्लिक इंटैलैक्चुअल

Additional Information

पुस्तकों को प्रतिबन्धित करने या उन्हें लुगदी बना देने की माँग तेज़ी से बढ़ती जा रही है और इसके साथ ही लेखकों को विद्वेषपूर्ण और ज़हरीले तरीके से अपमानित किया जा रहा है। सोशल मीडिया में तो यह कुछ अधिक ही होता है , ऐसा अपमान उन लोगों की तरफ़ से ज़्यादा होता है जिन्होंने उस पुस्तक को पढ़ा ही नहीं है, जिस पुस्तक को वे धिक्कारते हैं। प्रायः तो यही स्थिति देखने को मिलती है। अब प्रकाशक किसी पुस्तक को छापने से पहले कानूनी सलाह लेने लगे हैं। धर्म या ईश निन्दा से सम्बन्धित क़ानूनों का भी क़ानूनी दुरुपयोग होता है। फ़िल्मों और वृत्तचित्रों को प्रतिबन्धित कर दिया जाता है या फिर यह धमकी दी जाती है कि उन्हें प्रतिबन्धित कर दिया जायेगा या फिर उन्हें बिना किसी विश्लेषण के अभिविवेचित (सेंसर) कर दिया जाता है। जैसे बच्चों का खिलौना चकरघन्नी घूमती रहती है, ऐसे ही फ़िल्मों के लिए सेंसर का उपयोग या दुरुपयोग लगातार होता रहता है और ऐसा दुरुपयोग तो अब हर नुक्कड़ की भाषा बन गयी है। सोशल मीडिया में इसका भरपूर दुरुपयोग होता है जबकि व्यक्ति को निशाना बनाया जाता है। व्यापारिक विज्ञापनों और बम्बई में बनने वाली फ़िल्मों या उसके प्रान्तीय भाषाओं के संस्करण, दृश्य मीडिया में उस ईर्ष्यालु (डाही) जीवन-शैली को दिखलाते हैं जो ‘पश्चिम’ की नक़ल है। परन्तु इस पर चर्चा नहीं होती। इस प्रकार का प्रकट प्रदर्शन, जिसे कुछ पश्चिमीकरण कहते हैं और कुछ की नज़र में आधुनिकता है, क्या वास्तव में मात्र नक़ल है या यह आधुनिकता के प्रभाव से परिवर्तन पश्चिमी जीवन-शैली के प्रतीकों के सदृश है। यह परिवर्तन नहीं है जब हमारे राजनेता यह कहते हैं कि महिलाओं के साथ बलात्कार इसलिए होता है कि वे बहुत चुस्त कपडे़ पहनती हैं या फिर पश्चिमी नारी की नक़ल करते हुए जींस पहनती हैं।

About the writer

Romila Thapar

Romila Thapar जन्म : 30 नवम्बर 1931, लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। शिक्षा : पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद, इन्होंने लन्दन विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ओरिएण्टल एण्ड अफ़्रीकन स्टडीज़ से ए. एल. बशम के मार्गदर्शन में 1958 में पीएच.डी. की उपाधि अर्जित की। कालान्तर में इन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नयी दिल्ली में प्रोफ़ेसर के पद पर कार्य किया, फिलहाल अभी ये वहीं पर प्रोफ़ेसर एमेरिट के पद पर हैं। रोमिला थापर के उल्लेखनीय कार्यों में ‘अशोक तथा मौर्य साम्राज्य का पतन’, ‘प्राचीन भारत का सामाजिक इतिहास : विवेचना’, ‘समकालिक परिप्रेक्ष्य में प्रारम्भिक भारतीय इतिहास (सम्पादिका)’, ‘भारत का इतिहास-खण्ड-1’ तथा ‘प्रारम्भिक भारत-उत्पत्ति से ई.1300 तक’ हैं। इनके ऐतिहासिक कार्यों में हिन्दू धर्म की उत्पत्ति को सामाजिक ताक़तों के बीच एक उभरती परस्पर क्रिया के रूप में चित्रित किया गया है। इनका गुजरात के प्रसिद्ध ‘सोमनाथ मन्दिर’ के इतिहास पर लिखा लेख काफ़ी चर्चित है। पुरस्कार एवं सम्मान : रोमिला थापर कॉर्नेल विश्वविद्यालय, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय और पेरिस में कॉलेज डी फ्रांस में विजिटिंग प्रोफ़ेसर हैं। वह 1983 में भारतीय इतिहास कांग्रेस की जनरल प्रेसिडेंट और 1999 में ब्रिटिश अकादमी की कोरेस्पोंडिंग फेलो चुनी गयीं। फुकुओका एशियाई संस्कृति पुरस्कार, क्लुग प्राइज़ से पुरस्कृत थापर जवाहरलाल नेहरू फेलोशिप और रॉयल सोसायटी ऑफ़ एडिनबर्ग की भी फेलो रह चुकी हैं।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality