Karkrekha

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-101-8

Author:SHASHI PRABHA SHASTRI

Pages:248


MRP : Rs. 150/-

Stock:In Stock

Rs. 150/-

Details

कर्करेखा

Additional Information

यों तो नारी-पुरुष संबंधों पर हिंदी में कई कोणों से काफी कुछ लिखा गया है, किन्तु ककरेखा में जिस ढंग से इन संबंधों की वास्तविकताओं से सीधा साक्षात्कार है, वह दुर्लभ है। मध्यवर्गीय नारी के प्रेम-विवाह के बाद की भयावहता को उकेरती यह कृति मानवीय संबंधों की त्रासदी का अनुपम दस्तावेज़ बन जाती है। नगरीय जीवन की भागम-भाग में उलझते दांपत्य संबंधों के बीच शिक्षित मध्यवर्गीय नारी के एकाकीपन को लेखिका ने सटीक अभिव्यक्ति प्रदान की है। पत्नी की आत्मिक आवश्यकताओं से निस्संग, इस उपन्यास का बुद्धिजीवी नायक अपने आचरण में इतने ठंडेपन का शिकार रहता है कि उनके संबंधों के बीच अस्पष्ट-सी जड़ता हर वक्त सालती रहती है। अपने-अपने स्वार्थों में आकण्ठ डूबे लोगों के बीच भारतीय नारी की पीड़ा को लेखिका ने किसी खोखले आदर्शवाद का जामा नहीं पहनाया है, बल्कि निरंतर समकालीन सचाइयों से बेहिचक सामना किया है। नारी-सुलभ संवेदना से ओत-प्रोत यह कृति पाठकों के दिमाग में कई मानवीय प्रश्न उठाती है। भाषा और शैली का गठन ऐसा है कि पाठक अंतिम पृष्ठ तक पढ़ने को विवश हो।

About the writer

SHASHI PRABHA SHASTRI

SHASHI PRABHA SHASTRI शशिप्रभा शास्त्री रचनात्मक कार्य : उपन्यास :नावें, सीढ़ियाँ, परछाइयों के पीछे, परसों के बाद, क्योंकि, उम्र एक गलियारे की, कर्करेखा, ये छोटे महायुद्ध, खामोश होते सवाल, हर दिन इतिहास, मीनारें, अमलतास। कहानी-संग्रह : धुली हुई शाम, अनुत्तरित, जोड़-बाकी, पतझड़, दो कहानियों के बीच, एक टुकड़ा शांतिरथ, उस दिन भी, चर्चित कहानियाँ। यात्रावृत्त : सागर पार का संसार। रोज़ की तरह (डायरी) प्रकाश्य बाल पुस्तकें : पुल के पार (उपन्यास), आसमान की मेज़ (कहानी संकलन), अँधेरे का सिपाही तथा नीलम देश का जादूगर (उपन्यास) प्रकाश्य। शोधग्रंथ : हिंदी के पौराणिक नाटकों के मूलस्रोत पुरस्कार : सीढ़ियाँ तथा परछाइयों के पीछे उपन्यास (उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान से पुरस्कृत)। दो उपन्यास कन्नड़ में अनूदित-प्रकाशित। कहानियाँ प्रादेशिक भाषाओं तथा अंग्रेज़ी में अनूदित-प्रकाशित। कहानियाँ विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों में सम्मिलित। रचनाओं पर शोधकार्य। सम्पर्क : 78 समाचार अपार्टमेंट्स, मयूर विहार-1 (विस्तार), दिल्ली-110091

Books by SHASHI PRABHA SHASTRI

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality