Simmad Safed

Format:Paper Back

ISBN:81-7055-639-2

Author:RATNESHWAR

Pages:62

MRP:Rs.200/-

Stock:In Stock

Rs.200/-

Details

सिम्मड़ सफेद

Additional Information

सिम्मड़ गाँव-गँवई की बोली से लिया गया शब्द है। वैसे सिमर, सेमल या शाल्मली सब एक ही शब्द का पर्याय है और यह उस वृक्ष को संकेत करता है जिसका फूल तो लाल होता है, किन्तु फली से सफ़ेद रुई निकलती है। कथाकार का अभिप्राय शायद उस पेड़ के भेद गो कि इस निगूढ़ रहस्य से है, जिसकी मूल संवेदना से कथा-संग्रह की पहली कहानी का खास पात्र संपृक्त है। एक भावनात्मक लगाव जैसा हो गया है उसे उस दरख्त से, जो बार-बार उसे अपनी ओर खींचने को बाध्य करता है। हलका-सा, पुस्तक के शीर्षक और पहली कहानी के टाइटिल पर अटकने के बाद वरक पलटता गया और शेष कहानियों से रू-ब-रू होता गया। यकीनन ये छोटी-छोटी कहानियाँ जनपदों के तटीय प्रदेशों, गाँव-कसबों की तपती-नरम ज़िन्दगी की शिद्दतों को गहराई से छूने जैसी प्रतीत हुई। ठूह कशिश के साथ उठता गिरता, पर जहाँ से बनता उसी में विलीन नहीं होता। कभी सतह की यथार्थता को तोड़ जगह बनाता, तो कभी कल्पना के गह्वर में गुम हो जाता। आज के संवेगों, संवेदनाओं के दंश को गहराई से कुछ कहानियों में समेटने की कोशिश की गयी है।

About the writer

RATNESHWAR

RATNESHWAR रत्नेश्वर लेखन नाम : रत्नेश्वर पूरा नाम : रत्नेश्वर कुमार सिंह जन्म तिथिः 20.10.1966 शिक्षा : स्नातक (प्रतिष्ठा), पत्रकारिता में डिप्लोमा। सम्मान : साहित्य रत्न (अखिल भारतीय पत्रकार परिषद्) 1991, स्वामी विवेकानन्द साहित्य युवा पुरस्कार, 1997 । पुस्तकें : 1. दिशा, 2. बचपन, 3. मेरा भारत महान, 4. पहली बार, 5. सफल हिन्दी निबन्ध, 6. पत्रकारिताः नये सिद्धान्त एवम् प्रयोग, 7. सफल निबन्ध प्रशिक्षक, 8. सफल हिन्दी निबन्ध, पत्र एवं बोध, 9. समाचार : एक दृष्टि, 10. सिम्मड़ सफेद। समाचार पत्रों में : नवभारत (नागपुर) एवम् दैनिक राष्ट्रदूत (नागपुर) में 1988-89 में कार्य किया। पाटलिपुत्र टाइम्स (पटना) में फीचर प्रभारी सम्पादक के रूप में 1995 में तथा राष्ट्रीय नवीन मेल (डाल्टेनगंज) में 1996 में प्रभारी सम्पादक। शिक्षण संस्थान : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल के शिक्षण केन्द्र डॉ. जाकिर हुसैन संस्थान, पटना में 1997 में अध्यापन। बिहार सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त डॉ. जाकिर हुसैन संस्थान में 1997 ई. से अध्यापन। जे. डी. विमेन्स कॉलेज (मगध विश्वविद्यालय), 1998 ई. से पत्रकारिता का अध्यापन। बी.एन.मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा एवं अन्य कई विश्वविद्यालयों से जुड़ाव। विशेष : दुनिया की सबसे छोटी लघुकथा लिखने का दावा। ‘कटाव' कहानी पर टेलीफिल्म। फीचर की विश्व की पहली परिभाषा। बीस से भी अधिक नयी परिभाषायें। पत्रकारिता में अनेक नयी खोजें निबन्ध में नयी खोज एवं शोध । पता : जनक भवन, रोड नं. 1/2डी, राजेन्द्र नगर, पटना-16

Books by RATNESHWAR

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality