SHABD KE PEECHHE CHHAYA HAI

Original Book/Language:

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-723-2

Author:YESE DARJE THONGACCHI

Translation:

Pages:95


MRP : Rs. 225/-

Stock:In Stock

Rs. 225/-

Details

No Details Available

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

LARS AMUND VAAGE AND RUSTAM SINGH

LARS AMUND VAAGE AND RUSTAM SINGH लार्श आमुन्द वोगे लार्श आमुन्द वोगे का जन्म नॉर्वे के पश्चिमी तट पर बसे सुण्ड नामक गाँव में 1952 में हुआ। स्कूल की पढ़ाई ख़त्म करने के बाद उन्होंने एक साल प्राथमिक शाला में पढ़ाया। कॉलेज में उन्होंने मुख्यतः विज्ञान की पढ़ाई की। 1974-75 के दौरान उन्होंने बर्गन संगीत विद्यालय से पिआनो बजाने की शिक्षा प्राप्त की और इसके साथ-साथ बर्गन विश्वविद्यालय में साहित्य का अध्ययन किया। 1975 से 1985 के दौरान उन्होंने संगीत शिक्षक, पत्रकार, ट्रक और बस ड्राइवर इत्यादि की नौकरी की। उन्होंने 1979 में लिखना शुरू किया और अब तक तीन कविता संग्रह, दस उपन्यास, एक कहानी संग्रह, एक नाटक तथा बच्चों के लिए दो पुस्तकें प्रकाशित की हैं। उन्हें अनेक साहित्यिक पुरस्कार प्राप्त हुए हैं जिनमें आस्कहाउग प्रकाशक पुरस्कार (1995), स्वीडी अकादमी का डोबलॉग पुरस्कार (1997), यीलन्दाल प्रकाशक पुरस्कार (2002) तथा बरागे पुरस्कार (2012) प्रमुख हैं। इसके अलावा उन्हें नॉर्डिक काउंसिल साहित्यिक पुरस्कार के लिए भी नामांकित किया गया। उनकी रचनाओं का कई भाषाओं में अनुवाद हुआ है। लार्श आमुन्द वोगे नॉर्वे में अपनी पीढ़ी के सम्भवतः सबसे ज़्यादा मौलिक और सिद्ध कवि हैं। / रुस्तम सिंह कवि और दार्शनिक। हिन्दी में अब तक तीन कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं। अंग्रेजी में भी दो पुस्तकें छपी हैं : Weeping' and Other Essays on Being and Writing (2011) तथा A Story of Political Ideas for Young Readers, Volume 1: Socrates, Plato, Aristotle, Macbiaveli (2010). अंग्रेज़ी में निबन्ध और पर्चे कई राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। उनकी कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, तेलुगु, स्वीडी, नॉर्वीजी तथा इस्टोनी भाषाओं में हुआ है। उन्होंने नॉर्वे के विख्यात कवि ऊलाव हाउगे की कविताओं का हिन्दी में अनुवाद किया है, जो सात हवाएँ शीर्षक से वाणी प्रकाशन से 2008 में प्रकाशित हआ। इसके अलावा, उन्होंने हिन्दी कवि तेजी ग्रोवर के साथ मिलकर हेनरिक इब्सन के दो नाटकों हेड्डा गेब्लर तथा मास्टर बिल्डर के हिन्दी अनुवाद भी किये जो 2006 में वाणी प्रकाशनने छापे थे। आजकल वे एकलव्य, भोपाल, में वरिष्ठ सम्पादक हैं। वे Indian Institute of Advanced Study, Shimla, Jawaharlal Nehru University, New Delhi, तथा Centre for the Study of Developing Societies, Delhi, में फ़ेलो रहे हैं। वे Economic and Political Weekly, Bombay, के सह-सम्पादक तथा महात्मा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय की पत्रिका Hindi: Language, Discourse, Writing के संस्थापक सम्पादक रहे हैं। Email: rustamsingh1@gmail.com

Books by LARS AMUND VAAGE AND RUSTAM SINGH

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality