Sapnon Ki Nagari

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-236-7

Author:INDRA BAHADUR KHARE

Pages:120

MRP:Rs.225/-

Stock:In Stock

Rs.225/-

Details

सपनों की नगरी

Additional Information

‘सपनों की नगरी' कहानी संग्रह में कवि इन्द्र बहादुर खरे द्वारा सन् 1940 से '43 के मध्य लिखी कहानियाँ हैं। ये कहानियाँ विभिन्न प्रतियोगिताओं, पत्र-पत्रिकाओं एवं आकाशवाणी में क्रमशः पुरस्कृत, प्रकाशित एवं प्रसारित होती आयी हैं। आज 70-72 वर्षों के बाद भी इनमें ताजगी है क्योंकि ये जीवन की क्रूर सच्चाइयों के निकट हैं। जीवन के विभिन्न रंगीन, धुंधले सपनों को 'सपनों की नगरी' में वास मिला है। संग्रह के एक-एक सपने अपनी सौरभ सुरभि से साहित्यिक नगरी की पगडण्डियों को शोभित कर रहे हैं। आशा है कवि के पूर्व में प्रकाशित अन्य संग्रह के समान पाठक के खंजन नयन कथावस्तु में गीले होते रहेंगे, पात्रों के सपनों के साथ अपने पर फैला इस संग्रह को नयी ऊँचाई देते रहेंगे। अमिय रंजन होली : 8 मार्च, 2012

About the writer

INDRA BAHADUR KHARE

INDRA BAHADUR KHARE इन्द्र बहादुर खरे 16 दिसम्बर, 1922, गाडरवारा (म.प्र.)-13 अप्रैल, 1953 प्रयाग (उ.प्र.) शिक्षा : सोहागपुर, कटनी, महोबा, मथुरा, जबलपुर, नागपुर, प्रयाग, एम.ए., (पीएच.डी. अपूर्ण), साहित्य रत्न, भारत स्काउट्स एवं गाइड्स, विद्यासागर (मरन्नोपरान्त) अभिरुचि : स्काउटिंग, हॉकी, फुटबाल, चित्रकला पुस्तकें : 'रसायन-एक अध्ययन' (हरिऔध, मैथिलीशरण, प्रसाद, निराला, पंत, महादेवी) सागर वि.वि. के बी.ए., एम.ए. के छात्रों के लिए 1950, सुमन कुंजी, भारत वैभव भाग 3, कक्षा सातवीं 1951; मरणोपरान्त : काव्य 'विजन के फूल' 1955, 'भोर के गीत' 2009 (वि. वि. के एम.ए. के पाठ्यक्रम में सम्मिलित), 'सुरबाला', 'सिन्दूरी किरण', 'आरती के दीप', 'बाल गीत', राष्ट्रीय कविताएँ 'आज़ादी के पहले आज़ादी के बाद', गद्य काव्य 'रजनी के पल', कहानी संग्रह 'बेलाताल', लघु उपन्यास 'जीवन पथ के राही', लेख 'कश्मीर', 'आचार्य रामचंद्र शुक्ल के साहित्य' पर एम.ए. के प्रश्न उत्तर, 'ग़ज़ल', 'निबन्ध', 'अनुवाद' आदि सम्पादन : 'भारत वैभव भाग 1' कक्षा पाँचवी के लिए सहायक पाठ्य पुस्तक 1950, 'भारत वैभव भाग 2' कक्षा छठवीं 1950, रेवा', 'युगारम्भ', 'प्रकाश', 'ऋतम्भरा' आकाशवाणी नागपुर के अनुमोदित गीतकार, कहानीकार।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality