MERI KATHA : DALIT YATANA, SANGHARSH AUR BHAVISHYA

Format:Paper Back

ISBN:9789352292172

Author:MARTIN MEKVAN

Pages:


MRP : Rs. 125/-

Stock:In Stock

Rs. 125/-

Details

यह पुस्तक विख्यात दलित मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन मेकवान ने भले लिखी हो,लेकिन यह उन सबकी और उन सबके लिए है, जिन्होने इस भेदभाव को सहा है और सभी मनुष्यों के साथ समानता और स्वतन्त्रता की आकांक्षा रखते हैं। यह किसी एक व्यक्ति की आत्मकथा अथवा अपने जीवनानुभावों का ब्यौरा नहीं है। निश्चित तौर पर यह समाज में समानता प्राप्त करने का परिप्रेक्ष्य है। यह किताब एन.जी.ओ. और समाज के लिए न केवल प्रासंगिक बाली अनिवार्य है। सामाजिक एक्टिविज़्म के क्षेत्र में काम करने वाले दलित और गैर दलित कार्यकर्ताओं को यह किताब अंबेडकरवादी चेतना से संपन्न करती है जो न्याय, समानता, स्वतन्त्रता और गरिमा पर आधारित है।

Additional Information

No Additional Information Available

About the writer

MARTIN MEKVAN

MARTIN MEKVAN पिछले 26 वर्षों से गुजरात में जाति भेद और छुआछूत के खिलाफ चलने वाले दलित आंदोलन में सक्रिय कार्यकर्ता। मानवधिकारों के लिए रॉबर्ट एफ. कैनेडी अवार्ड तथा ग्लिट्समैन एक्टिविस्ट अवार्ड से सम्मानित। संप्रति इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ दलित स्टडीज में चेयर पर्सन। संघर्ष ना सथवारे नवसर्जन, कडच जाति वंश ना होय, दलित समस्या जगत चोक्मा, विश्वब्रह्मा छावै गयेलो दलियोनो अवाज आदि प्रमुख कृतियाँ मेकवान युवाओं के लिए प्राथमिक शिक्षा और मूल्य-शिक्षा पर जोर देते हैं।

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality