Sambandh

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5000-822-5

Author:Lili Ray Translated by Vibha Rani

Pages:120

MRP:Rs.200/-

Stock:In Stock

Rs.200/-

Details

सम्बन्ध

Additional Information

लिली रे ने आभिजात्य वर्ग से लेकर सामान्य वर्ग तक के लोगों को ले कर कहानियाँ लिखी हैं। यह उनकी लेखनी का कमाल है कि हर वर्ग के पात्र और परिस्थितियाँ उनके हाथों अविस्मरणीय व अद्भुत बन जाते हैं। भाव, भाषा, सरलता व सहजता की तरल धार में बहती इनकी कहानियाँ अपने अन्त में पाठकों को बहुत बुरी तरह चौंकाती हैं, चेखव की कहानियों की तरह। इस संग्रह की अधिकांश कहानियाँ दार्जिलिंग व उसके आसपास के इलाकों की पृष्ठभूमि पर लिखी हुई हैं। जगह-जगह प्रवास करती लिली रे जिस स्थान पर रहीं. वहाँ के लोगों को अपनी कथा का विषय बनाया। इस तरह से मैथिली में वे प्रवासी साहित्य रचती रही हैं। लिली रे की कहानियों की उपमा भोर की हरी दूब पर पड़ी ओस की बूंदों से की जा सकती है, जिन पर नंगे पाँव चलते हुए आपको एक सर्द गुनगुनी नमी का अहसास होता है। ओस कहने को आपके तलवों को छूती है, परन्तु वस्तुतः उसका असर दिल और दिमाग तक पहुँचता है। किसी भी कहानी की सफलता है कि आप उसे एक बैठक में पढ़ जाएँ। सफलता की यह वीणा लिली रे की हर कहानी में झंकृत होती है। इनकी कहानियाँ विश्व की चुनिंदा कहानियों के समकक्ष रखी जा सकती हैं।

About the writer

Lili Ray Translated by Vibha Rani

Lili Ray Translated by Vibha Rani

Books by Lili Ray Translated by Vibha Rani

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality