Ai Ladki

Format:Hard Bound

ISBN:978-93-5072-513-9

Author:Krishna Sobti

Pages:


MRP : Rs. 125/-

Stock:In Stock

Rs. 125/-

Details

ए लड़की

Additional Information

यह एक लंबी कहानी है - यों तो मृत्यु की प्रतीक्षा में एक बूढ़ी स्त्री की, पर वह फैली हुई है उसकी समूची ज़िंदगी के आर-पार, जिसे मरने के पहले अपनी अचूक जिजीविषा से वह याद करती है। उसमें घटनाएँ, बिंब, तसवीरें और यादें अपने सारे ताप के साथ पुनरवतरित होते चलते हैं - नज़दीक आती मृत्यु का उसमें कोई भय नहीं है बल्कि मानो फिर से घिरती-घुमड़ती सारी ज़िंदगी एक निर्भय न्योता है कि वह आए, उसके लिए पूरी तैयारी है। पर यह तैयारी अपने मोह और स्मृतियों, अपनी ज़िद और अनुभवों का पल्ला झाड़कर किसी वैरागी सादगी में नहीं है बल्कि पिछले किये-धरे को एकबारगी अपने साथ लेकर मोह के बीचोबीच धँसते हुए प्रतीक्षा है - एक भयातुर समय में, जिसमें हम जीवन और मृत्यु, दोनों से लगातार डरते रहते हैं, उसमें सहज स्वीकार, उसकी विडंबना और उसकी ट्रैजीकॉमिक अवस्थिति का पूरा और तीखा अवसाद है। यह कथा अपनी स्मृति में पूरी तरह डूबी स्त्री का जगत् को छोड़ते हुए अपनी बेटी को दिया निर्मोह का उपहार है। राग और विराग के बीच चढ़ती-उतरती घाटी को भाषा की चमक में पार करते हुए कोई यह सब जंजाल छोड़कर चला जाने वाला है। लेकिन तब भी यहाँ सब कुछ ठहरा हुआ है: भाषा में। कोई भी कृति सबसे पहले और सबके अंत में भाषा में ही रहती है - उसी में उसका सच मिलता, चरितार्थ और विलीन होता है। कथा-भाषा का इस कहानी में एक नया उत्कर्ष है। उसमें होने, डूबने-उतराने, गढ़ने-रचने की कविता है - उसमें अपनी हालत को देखता-परखता, जीवन के अनेक अप्रत्याशित क्षणों को सहेजता और सच्चाई की सख्ती को बखानता गद्य है। प्रूस्त ने कहीं लिखा है कि लेखक निरंतर सामान्य चेतना और विक्षिप्तता की सरहद के आर-पार तस्करी करता है। ऐ लड़की कविता के इलाक़ेे से गद्य का, मृत्यु के क्षेत्र से जीवन का चुपचाप उठाकर लाया-सहेजा गया अनुभव है।

About the writer

Krishna Sobti

Krishna Sobti जन्म : 18 फरवरी 1925, गुजरात (गुजरात का वह हिस्सा विभाजन के बाद पाकिस्तान में शामिल) भाषा : हिंदी विधाएँ : उपन्यास, कहानी, संस्मरण, यात्रा-संस्मरण, आलोचना मुख्य कृतियाँ उपन्यास : सूरजमुखी अँधेरे के, ज़िंदगीनामा, दिलोदानिश, समय सरगम, गुजरात पाकिस्तान से गुजरात हिंदुस्तान, जैनी मेहरबान सिंह, चन्ना लंबी कहानियाँ : डार से बिछुड़ी, मित्रो मरजानी, यारों के यार, तिन पहाड़, ऐ लड़की कहानी संग्रह : बादलों के घेरे संस्मरण : हम हशमत (चार भागों में), सोबती एक सोहबत यात्रा-संस्मरण : बुद्ध का कमंडल : लद्दाख आलोचना : मुक्तिबोध : एक व्यक्तित्व सही की तलाश में अन्य : शब्दों के आलोक में, सोबती वैद संवाद, लेखक का जनतंत्र, मार्फ़त दिल्ली सम्मान साहित्‍य अकादेमी पुरस्कार, साहित्य शिरोमणि सम्मान, शलाका सम्मान, मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार, हिंदी अकादमी अवार्ड, कथा चूड़ामणि पुरस्कार, महत्‍तर सदस्य - साहित्य अकादमी, ज्ञानपीठ पुरस्कार निधन 25 जनवरी 2019, दिल्ली

Books by Krishna Sobti

Customer Reviews

No review available. Add your review. You can be the first.

Write Your Own Review

How do you rate this product? *

           
Price
Value
Quality